नोडल अधिकारियों की बैठक में दिए आवश्यक दिशा-निर्देश…

निर्वाचन के कार्यों को पूर्ण गंभीरता से लें अधिकारी : कलेक्टर

ग्वालियर। मध्यप्रदेश में पंचायत एवं नगरीय निकायों के निर्वाचन की अधिसूचना शीघ्र ही जारी हो सकती है। निर्वाचन के संबंध में विभागीय अधिकारियों को जो भी जवाबदारी सौंपी जाए, उसका निर्वहन अधिकारी तत्परता से करें। निर्वाचन के कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। कलेक्टर आशीष तिवारी ने निर्वाचन के संबंध में आयोजित बैठक में अधिकारियों को यह निर्देश दिए। कलेक्ट्रेट कार्यालय के सभाकक्ष में निर्वाचन के लिये नियुक्त नोडल अधिकारियों की बैठक आयोजित हुई। बैठक में निर्वाचन की तैयारियों के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए। बैठक में एडीएम इच्छित गढ़पाले, सभी अनुविभागीय अधिकारी राजस्व तथा नोडल अधिकारी उपस्थित थे। कलेक्टर श्री तिवारी ने नोडल अधिकारियों से कहा है कि निर्वाचन के लिये चिन्हित मतदान केन्द्रों का समय रहते निरीक्षण करें। 

मतदान केन्द्रों की सभी व्यवस्थायें चाक-चौबंद हों, यह भी सुनिश्चित किया जाए। मतदान केन्द्रों पर साफ-सफाई, विद्युत व्यवस्था के साथ-साथ मतदान केन्द्र के बाहर मतदान केन्द्र अंकित करने का कार्य भी तत्परता से किया जाए। नोडल अधिकारी सभी मतदान केन्द्रों का भौतिक सत्यापन कर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करें।  बैठक में यह भी निर्देशित किया गया कि पंचायत चुनाव एवं नगरीय निकाय चुनाव की अधिसूचना जारी होते ही आदर्श आचार संहिता भी लागू हो जायेगी। आदर्श आचार संहिता का पालन करना भी सभी की जिम्मेदारी है। उन्होंने बताया कि इस बार पंचायत चुनाव बैलेट पेपर से तथा नगरीय निकाय चुनाव इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन के माध्यम से सम्पन्न होंगे। कलेक्टर श्री आशीष तिवारी ने निर्वाचन कार्यों की समीक्षा के दौरान विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे अपने – अपने कार्यालयों में पदस्थ अधिकारियों और कर्मचारियों की जानकारी जिला निर्वाचन कार्यालय को तत्काल उपलब्ध कराएँ। जिन विभागों ने अब तक जानकारी प्रस्तुत नहीं की है वे 24 घंटे में अपने अधीनस्थ अमले की जानकारी प्रस्तुत करें। 

कलेक्टर श्री तिवारी ने यह भी स्पष्ट किया है कि निर्वाचन कार्यालय द्वारा चाही गई जानकारी न उपलब्ध कराना गंभीर अनियमितता मानी जायेगी। ऐसे विभागीय अधिकारियों के विरूद्ध निर्वाचन की धाराओं के तहत दण्डात्मक कार्रवाई की जायेगी। नगरीय निकाय एवं पंचायत चुनाव के दृष्टिगत संवेदनशील एवं अति संवेदनशील मतदान केन्द्रों के निर्धारण के लिये राजस्व अधिकारी एवं पुलिस अधिकारी संयुक्त रूप से भ्रमण करें। भ्रमण के पश्चात निर्धारित अवधि में संवेदनशील एवं अति संवेदनशील मतदान केन्द्रों के निर्धारण के संबंध में अपनी रिपोर्ट भी प्रस्तुत करें। एडीएम इच्छित गढ़पाले ने कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में राजस्व अधिकारियों और पुलिस अधिकारियों की संयुक्त बैठक में यह बात कही। उन्होंने राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों से कहा है कि वे अपने-अपने क्षेत्र में संयुक्त भ्रमण करें और भ्रमण के उपरांत अपनी रिपोर्ट भी प्रस्तुत करें।