लाड़ली लक्ष्मियों और समाज को दिशा देने वाले दम्पत्तियों हुआ सम्मान…

लाड़ली लक्ष्मियों के उल्लास व उत्साह से बेटीमय हुआ ग्वालियर

ग्वालियर। एक ओर उल्लास, उत्साह व उमंग से झूमतीं बेटियाँ तो दूसरी ओर कैनवास पर बालिका सशक्तिकरण के सुनहरे रंग बिखेरती बेटियाँ । एक ओर बेटियाँ व उनकी माताओं का सामूहिक जुंबा नृत्य तो दूसरी ओर भारतीय समृद्ध संस्कृति से ओत-प्रोत शास्त्रीय संगीत की मनोहारी प्रस्तुति। यहाँ बात हो रही है “लाड़ली लक्ष्मी उत्सव” के तहत मातृ दिवस पर बाल भवन में जिले के प्रभारी एवं जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट के मुख्य आतिथ्य में आयोजित हुए भव्य, आकर्षक एवं मनोहारी लाड़ली फेस्ट तथा जिला स्तरीय कार्यक्रम की। 

जिसमें लाड़ली लक्ष्मियों ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियाँ दीं। कार्यक्रम में ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर एवं सांसद विवेक नारायण शेजवलकर भी शामिल हुए। जिले भर में लगभग 300 स्थानों पर लाड़ली लक्ष्मी उत्सव के तहत कार्यक्रम आयोजित हुए। इन कार्यक्रमों के फलस्वरूप सम्पूर्ण जिला बेटीमय नजर आया। प्रदेश सरकार की इस महात्वाकांक्षी योजना के तहत जिले की एक लाख से अधिक बेटियाँ अब तक लाड़ली लक्ष्मी बन चुकी हैं। प्रभारी मंत्री श्री सिलावट ने बालिकाओं एवं उनकी माताओं के बीच पहुँचकर उन्हें शाबाशी दी। 

साथ ही भरोसा दिलाया कि आप सब आगे बढ़कर अपने शहर, प्रदेश व देश का नाम रोशन करो, प्रदेश सरकार हर संभव मदद के लिये बेटियो के साथ खड़ी है। जिला स्तरीय कार्यक्रम में प्रभारी मंत्री श्री सिलावट एवं अन्य अतिथियों ने उत्कृष्ट उपलब्धि हासिल करने वाली जिले की लाड़ली लक्ष्मियों एवं एक या दो बेटी पर परिवार नियोजन कराकर समाज को बेटियों के प्रति सकारात्मक संदेश देने वाले दम्पत्तियों को सम्मानित किया। 

साथ ही 16 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुकीं बालिकाओं को लर्निंग ड्रायविंग लायसेंस प्रदान किए। प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट ने इस अवसर पर कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वर्ष 2007 में लाड़ली लक्ष्मी योजना के रूप में जो पौधा रोपा था, वह पुष्पित व पल्लवित होकर अब वृक्ष का रूप ले रहा है। इसके लिए पूरा समूचा प्रदेश मुख्यमंत्री श्री चौहान के प्रति कृतज्ञ है। प्रदेश सरकार की इस योजना ने सफलतापूर्वक महिला सशक्तिकरण की दिशा में क्रांतिकारी इबारत लिखी है। इसे देश के अन्य राज्यों ने भी अपनाया है। 

उन्होंने कहा कि जो लाड़ली लक्ष्मी, कलेक्टर, डॉक्टर, इंजीनियर, कुशल प्रबंधक या कलाकार बनना चाहती हैं उनके सपने को पूरा करने में प्रदेश सरकार हर संभव मदद के लिये खड़ी है। सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने कहा कि लाड़ली लक्ष्मी योजना के माध्यम से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बेटियों के माता-पिता की चिंता दूर कर दी है। उन्होंने कहा खुशी की बात है इस योजना का आज मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा दूसरा चरण शुरू किया जा रहा है। 

कार्यक्रम में जिला पंचायत प्रशासकीय समिति की अध्यक्ष मनीषा यादव एवं पूर्व महापौर समीक्षा गुप्ता ने भी विचार व्यक्त किए। आरंभ में अतिथियों ने दीप प्रज्ज्वलन एवं कन्या पूजन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। अतिथियों ने लाड़ली लक्ष्मियों एवं उनके माता-पिता पर इस अवसर पर पुष्प वर्षा भी की। प्रभारी मंत्री श्री सिलावट सहित सभी अतिथियों ने इस अवसर पर स्वयं का सम्मान स्वीकार न कर नारी शक्ति को सम्मानित कराया। 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के मुख्य आतिथ्य में भोपाल में आयोजित हुए राज्य स्तरीय कार्यक्रम का वेब कास्टिंग के जरिए कार्यक्रम में सीधा प्रसारण हुआ। सभी अतिथियों एवं प्रतिभागियों ने ऑनलाइन मुख्यमंत्री श्री चौहान का उदबोधन सुना। लाड़ली लक्ष्मी उत्सव के तहत भोपाल में 8 मई को आयोजित हुए राज्य स्तरीय कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जिले की लाड़ली लक्ष्मी कु. महक श्रीवास्तव को सम्मानित किया। प्रदेश स्तरीय कार्यक्रम में सम्मानित करने के लिये पूरे प्रदेश से तीन बालिकाओं का चयन किया गया है, जिसमें ग्वालियर की लाड़ली लक्ष्मी कु. महक भी शामिल हैं। 

प्रभारी मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट एवं सांसद श्री विवेक नारायण शेजवलकर सहित अन्य अतिथियों ने विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल करने वाली जिले की लाड़ली लक्ष्मियों को कार्यक्रम में सम्मानित किया। इनमें राज्य स्तरीय महिला बॉक्सिंग प्रतियोगिता में द्वितीय स्थान हासिल करने वाली कु. अदिति शिंदे, मेंटल अर्थमेटिक प्रतियोगिता में राष्ट्रीय स्तर पर प्रथम स्थान हासिल करने वाली कु. श्रेयांशी शर्मा एवं ललितकला के क्षेत्र में राज्य स्तर पर सम्मानित कु. श्रुति सिरोठिया शामिल हैं।