सीमा पर कड़ी गश्त की वजह से आतंकियों का भारत में घुसपैठ करना मुश्किल…

पाक आतंकी समूहों ने कश्मीर में बड़े पैमाने पर युवाओं की भर्ती शुरू की : सुरक्षा एजेंसियां

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में सीमा पार से आतंकवादियों की घुसपैठ को रोकने के लिए सुरक्षा एजेंसियों ने अपनी गश्त तेज कर दी है। वहीं दूसरी ओर आतंकी समूहों द्वारा कश्मीर घाटी के युवाओं की बड़ी पैमाने पर भर्ती का अभियान शुरू किया गया है। इसका खुलासा सुरक्षा एजेंसियों ने किया है। इस बारे में सुरक्षा एजेंसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ईटीवी भारत को बताया कि आतंकवादी संगठनों के द्वारा विध्वंसक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए और अधिक आतंकवादियों को भारत में भेजना मुश्किल हो रहा है। इस वजह से आतंकी संगठनों ने जम्मू कश्मीर में अपने हमदर्दों की मदद से भर्ती अभियान शुरू किया है। वहीं सुरक्षा एजेंसियों द्वारा घुसपैठ पर कड़ी नजर रखी जा रही है। 

इसी कड़ी में सीमा सुरक्षा बल (BSF) ने बुधवार को अंतरराष्ट्रीय सीमा (IB) से लगभग 150 मीटर की दूरी पर सांबा सेक्टर में चक फकीरा पोस्ट के पास एक सीमा पार सुरंग का पता लगाने में सफलता हासिल की है। इस सुरंग का इस्तेमाल आतंकवादियों द्वारा घुसपैठ के लिए किया जा सकता था या किया जाना था। सुरंग में 265 फीट लंबा ऑक्सीजन पाइप भी मिला है। सेना के अधिकारी ने बताया कि भारत-पाकिस्तान सीमा पर कड़ी गश्त की वजह से आतंकियों का भारत में घुसपैठ करना मुश्किल हो रहा है। उन्होंने बताया कि हाल के दिनों में पकड़े गए कुछ आतंकवादियों से पूछताछ के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने इस तरह के बड़े पैमाने पर भर्ती अभियान का खुलासा किया। अधिकारी ने कहा कि इस साल अब तक जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों ने 64 आतंकवादियों को मार गिराया है। इन 64 आतंकवादियों में से केवल 18 आतंकवादी सीमा पार से आए थे जबकि शेष 46 जम्मू-कश्मीर के स्थानीय युवक थे। 

वहीं सुरक्षा बलों ने 144 आतंकवादियों को पकड़ने में सफलता प्राप्त की। सुरक्षा एजेंसियों ने सोशल मीडिया पर निगरानी भी तेज कर दी है क्योंकि ये संगठन ऑनलाइन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए भी स्थानीय युवाओं की भर्ती कर रहे हैं। अधिकारी ने कहा, ट्विटर, फेसबुक जैसे विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के साथ-साथ आतंकी संगठन सुरक्षा एजेंसियों की निगरानी से बचने के लिए टेलीग्राम का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करते हैं। खुफिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए अधिकारी ने कहा कि विभिन्न पाकिस्तान आधारित संगठनों से जुड़े लगभग 160 आतंकवादी वर्तमान में जम्मू-कश्मीर में सक्रिय हैं। अधिकारी ने एक अनुमान बताते हुए कहा कि लश्कर-ए-तैयबा के कम से कम 83 आतंकवादी, जैश-ए-मोहम्मद के 30 आतंकवादी और हिजबुल मुजाहिद्दीन के 38 आतंकवादी इस समय जम्मू-कश्मीर में मौजूद हैं।