केंद्रीय गृह मंत्री ने दिए थे दंगाइयों के खिलाफ सख्त रुख अपनाने के निर्देश…

जहांगीरपुरी हिंसा में शामिल अंसार सहित पांच आरोपियों पर दिल्ली पुलिस ने लगाया NSA

नई दिल्लीर। जहांगीपुरी हिंसा में शामिल 5 आरोपियों पर दिल्ली पुलिस ने राष्ट्री य सुरक्षा कानून (NSA) लगाया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कल ही दिल्ली पुलिस को दंगाइयों के खिलाफ सख्त रुख अपनाने के निर्देश दिए थे। इसके बाद आज 5 दंगाइयों के खिलाफ एनएसए लगाया गया है। जिन आरोपियों पर NSA लगा है उनके नाम अंसार, सलीम, इमाम शेख उर्फ सोनू, दिलशाद और अहीर है। इस बीच,दिल्ली पुलिस ने हिंसा मामले में एक अन्यउ आरोपी गुल्ली को भी गिरफ्तार किया है। उस पर हिंसा में शामिल लोगों को हथियार सप्लाई करने का आरोप है। 

पुलित के अनुसार, जहांगीरपुरी हिंसा मामले में अभी तक के हिसाब से मुख्य आरोपी अंसार कहने के लिए तो कबाड़ी का काम करता है लेकिन इसके ऊपर सट्टा जैसा अवैध धंधा चलाने के भी चार मुकदमे दर्ज हैं। जहांगीरपुरी दंगे में 2 नाम मुख्यत रूप से उभरकर सामने आए हैं, एक अंसार और दूसरा सोनू शेख उर्फ इमाम। 40 साल के अंसार पर साल 2009 में आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा हुआ। साल 2011 से 2019 के बीच में गैंबलिंग एक्ट के तीन मुकदमे दर्ज हुए। साल 2013 में छेड़छाड़ की धारा 509 मारपीट की धारा 323 और धमकाने की धारा 509 के तहत भी मुकदमा दर्ज हुआ था। 

एक मामला जुलाई 2018 का है, 186/353 ipc(सरकारी कर्मचारी पर हमला करना और सरकारी काम मे बाधा डालना) की धारा इस पर लगाई गई थी। अंसार चौथी कक्षा तक पढ़ा है। जहांगीरपुरी सी ब्लॉक का निवासी अंसार एरिया में काफी पहचाना नाम है क्योंकि जैसे-जैसे उसका क्रिमिनल रिकॉर्ड बढ़ता गया वैसे-वैसे एरिया में उसकी एक्टिविटी अवैध पार्किंग से उगाही, सट्टे और नशे के कारोबार में बढ़ती गई। पुलिस का कहना है कि इन तमाम कामों से उसकी हर महीने लाखों की कमाई है। सूत्रों का कहना है कि एरिया के अवैध धंधों की उगाही का हिस्सा वह पुलिस तक भी पहुंचाता रहा है। 

जहांगीरपुर दंगे वाली शाम नीले कुर्ते में पुलिस के ऊपर फायरिंग करते हुए वायरल हुआ सोनू शेख भी गिरफ्तारी के बाद पूछताछ के दायरे में है। पुलिस उसका पुराना क्रिमिनल रिकॉर्ड खंगाल रही है, उसके बारे में पूछताछ कर रही है। सूत्रों से जानकारी मिली है कि उसके खिलाफ एक आपराधिक मुकदमा पहले से दर्ज मिला है। उससे सोफेस्टिकेटेड पिस्टल भी रिकवर हुई है। सोनू से पहले गिरफ्तार हुआ उसका भाई सलीम चिकना कुख्यात बदमाश है, जिस पर पहले से हत्या की कोशिश लूटपाट आर्म्स एक्ट जैसे कई मामले दर्ज हैं। सोनू सेठ को जब पुलिस गिरफ्तार करने गई तो एक बार फिर पुलिस के टीम के ऊपर पत्थर फेंके गए। पुलिस पूरी फैमिली के क्रिमिनल बैकग्राउंड की भी पड़ताल कर रही है।