तड़के एक झुग्गी में आग लगने से…

लुधियाना में एक ही परिवार के 7 लोग जिंदा जले

पंजाब के लुधियाना जिले में बुधवार तड़के एक झुग्गी में आग लगने से 7 लोग जिंदा जल गए घटना समराला चौक के नजदीक टिब्बा रोड स्थित मक्कड़ कॉलोनी की है। मृतक परिवार बिहार के समस्तीपुर का रहने वाला था। मृतकाें में पति-पत्नी समेत उनके 5 बच्चे शामिल हैं। मृतकों की पहचान सुरेश साहनी (55), उसकी पत्नी अरुणा देवी (52), बेटी राखी (15), मनीषा (10), गीता (8), चंदा (5) और 2 वर्षीय बेटे सन्नी के रूप में हुई है। परिवार का बड़ा बेटा राजेश बच गया। वह अपने दोस्त के घर सोने के लिए गया हुआ था। बाताया जाता है कि यहां कूड़े के ढेर के साथ बनी झुग्गी में अचानक आग लग गई। चीख-पुकार सुनकर लोग वहां पहुंचे। सूचना पाकर फायर ब्रिगेड की गाड़ियां भी मौके पर पहुंचीं। 

कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया लेकिन आग इतनी विकराल थी कि परिवार का कोई सदस्य बाहर नहीं निकल पाया। परिवार के किसी भी सदस्या को नहीं बचाया जा सका। जानकारी मिलते ही पुलिस, अस्पताल की टीम मौके पर पहुंची। डीसी सुरभि मालिक व पुलिस कमिश्नर कौस्तब शर्मा भी मौके पर पहुंचे। फोरेंसिक की टीम भी मौके पर पहुंच गई है। शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया गया है। इस घटना की जानकारी मिलते ही राजेश मौके पर पहुंचा। उसने बताया कि पिता सुरेश कुमार कबाड़ी का काम करते थे। आग कैसे लगी। 

इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं मिल पायी है। सभी पहलू से मामले की छानबीन: पूर्वी लुधियाना के सहायक पुलिस आयुक्त सुरिंदर सिंह ने बताया कि हादसे की सूचना मिलते ही सिविल अस्पताल से डाक्टरों की टीम मौके पर पहुंची। डीसी सुरभि मलिक व पुलिस कमिश्नर कौस्तभ शर्मा भी घटनास्थल पर पहुंचे। पुलिस ने झोपड़ी से सभी शवों को बाहर निकलवाया और पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल पहुंचाया। झोपड़ी में आग कैसे लगी, यह पता नहीं चल सका है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। फॉरेंसिक टीम ने घटनास्थल से नमूने एकत्रित कर जांच के लिए लैब भेज दिया है। हालांकि यह भी आशंका जतायी जा रही है कि किसी ने झुग्गी में उस वक्त आग लगा दी, जब पूरा परिवार सो रहा था। पुलिस हर पहलू से मामले की छानबीन कर रही है।