पीड़ित किसानों का रो-रो कर बुरा हाल…

भीषण आग में एक करोड़ से अधिक की गेहूं की फसल तबाह

दो दिन पहले ग्राम भदेश्वर में लगी भीषण आग से पंद्रह सौ बीघा गेहूं की फसल जलकर राख हो गई थी जिसमें लगभग गेहूं और भूसे की कीमत 4 करोड़ आंकी गई थी इसके बावजूद भी प्रशासन और किसानों ने सबक नहीं लिया आज रविवार दोपहर अज्ञात कारणों के चलते फिर से आग लग गई जिसमें आधा सैकड़ा से अधिक किसानों की गेहूं की फसल जलकर खाक हो गई। मौके पर पहुंचे पीड़ित किसानों का रो रो कर बुरा हाल महिलाएं बच्चे बिलख बिलख कर रो रहे हैं। 

वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि बाहरी लोग क्षेत्र में भूसा बनाने के लिए आ रहे हैं उनके द्वारा खेतों में बैठकर ध्रुमपान किया जाता है जिसके कारण से जलती हुई बीड़ी या तीली के कारण आग लग जाती है। इसके अलावा कुछ लोगों का कहना है कि गेहूं काटते या भूसा बनाते समय मशीनरी से निकली चिंगारी के कारण गेहूं के खेतों में आग लग जाती है। खैर कारण जो भी हो पर किसानों का आज फिर करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ है क्या सरकार किसानों की भरपाई कर पाएगी। 

वही भदेश्वर ग्राम में जलकर खाक हुई 1520 गेहूं की फसल का आकलन करने के लिए केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर केंद्रीय उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के अलावा ऊर्जा मंत्री प्रदुमन सिंह तोमर, राज्य मंत्री दर्जा प्राप्त भारत सिंह कुशवाह  उद्योग की मंत्री इमरती देवी सुमन के साथ-साथ क्षेत्रीय सांसद विवेक नारायण शेजवलकर जिला अध्यक्ष कौशल शर्मा किसान मोर्चा के जिला अध्यक्ष बृजमोहन गुर्जर ने भी जिला कलेक्टर के साथ आगजनी के नुकसान का आकलन किया था अब देखना होगा कि आगे क्या होता है।