कृषि उपभोक्ताओं के बिजली बिल का 93 प्रतिशत देगी सरकार…

बिजली उपभोक्ताओं को इस वित्तीय वर्ष में मिलेगी 22500 करोड़ की सब्सिडी


भोपाल। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने जानकारी दी है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा बिजली उपभोक्ताओं के हित में की गई घोषणा के अनुसार वित्तीय वर्ष 2022-23 में सभी वर्ग के बिजली उपभोक्ताओं को लगभग 22 हजार 500 करोड़ रुपये की सब्सिडी दी जायेगी। विगत वित्तीय वर्ष में लगभग 21 हजार करोड़ रुपये की सब्सिडी दी गई थी। श्री तोमर ने बताया है कि प्रदेश सरकार किसानों के हित में लगातार कार्य कर रही है। मध्यप्रदेश विद्युत विनियामक आयोग द्वारा 31 मार्च को जारी दरों की लगभग 7 प्रतिशत राशि ही कृषि उपभोक्ताओं को जमा करनी होगी। कृषि उपभोक्ताओं के बिल की शेष 93 प्रतिशत राशि सब्सिडी के रूप में सरकार वहन करेगी। मध्यप्रदेश विद्युत नियामक आयोग द्वारा 31 मार्च, 2022 को जारी विद्युत दरों के अनुसार क्रमश: 3 हॉर्स पॉवर, 5 हॉर्स पॉवर एवं 10 हॉर्स पावर के कृषि‍ उपभोक्तािओं को पूरे वर्ष में 29 हजार 252 रुपये, 52 हजार 177 रुपये एवं एक लाख 10 हजार 608 रुपये का देयक बनता है। इस पर राज्यू शासन द्वारा कृषि पंपो पर सब्सिडी की घोषणा की गई है। 

इसके अनुसार किसानों को मात्र 750 रुपये प्रति हॉर्स पॉवर प्रति वर्ष अर्थात उपरोक्ती श्रेणी के उपभोक्ता ओं को क्रमश: कुल 2250 रुपये, 3750 रुपये एवं 7500 रुपये का ही भुगतान करना होगा। सरकार द्वारा लिये गये निर्णय के अनुसार कृषि‍ उपभोक्ता2ओं को विद्युत नियामक आयोग द्वारा जारी दरों पर सब्िरा डी स्वीुकृत की गई है। इसके अनुसार उपभोक्ताआ द्वारा दी जाने वाली राशि‍ (750 रुपये प्रति हॉर्स पॉवर) एवं आयोग्‍ द्वारा जारी दरों का अंतर सरकार द्वारा वहन किया जायेगा। इस प्रकार सब्ि  पडी देने पर शासन प्रत्ये‍क 3 हॉर्स पावर पम्पं के लिये कुल राशि‍ 27 हजार 2 रुपये, 5 हॉर्स पावर पम्पा के लिये कुल राशि‍ 48 हजार 427 रुपये और 10 हॉर्स पावर पम्पय के लिये कुल राशि‍ एक लाख 3 हजार 108 रुपये का भुगतान सब्ि परडी के रूप में वहन करेगी। इस तरह से घोषणा अनुसार कृषि‍ उपभोक्ता ओं को नियामक आयोग द्वारा जारी दरों की मात्र लगभग 7 प्रतिशत राशि‍ ही जमा करना होगी, जबकि म.प्र. सरकार कृषि‍ उपभोक्तादओं के बिलों का लगभग 93 प्रतिशत राशि‍ सब्ि 0 डी के रूप में वहन करेगी। 

गौरतलब है कि कृषि‍ श्रेणी के उपभोक्ताषओं के अलावा 150 यूनिट प्रति माह तक मासिक खपत वाले घरेलू उपभोक्तावओं को प्रथम 100 यूनिट पर मात्र 100 रुपये का ही भुगतान करना होता है। जबकि 100 यूनिट खपत पर शहर के प्रत्ये क घरेलू उपभोक्तानओं के लिये सरकार सब्ितरुडी के रूप में लगभग 517 रुपये का भुगतान कर रही है। इस तरह से प्रदेश में लगभग एक करोड़ 8 लाख घरेलू बिजली उपभोक्ता  सब्सिडी का लाभ ले रहे हैं। साथ ही कुल 35 लाख कृषि‍ उपभोक्ताल हैं, जो सब्िोग्डी का लाभ प्राप्त  कर रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोविड से प्रभावित घरेलू बिजली उपभोक्ताओं की 31 अगस्त, 2020 तक की पूरी बकाया राशि लगभग 6400 करोड़ रुपये माफ करने की घोषणा की है। उल्लेखनीय है कि कोरोना काल में एक किलोवॉट तक के संयोजित भार वाले घरेलू बिजली उपभोक्ताओं के देयकों की 31 अगस्त 2020 तक की मूल बकाया राशि एवं अधिभार की आस्थगित राशि के भुगतान में उपभोक्ताओं को राहत देने के उद्देश्य से राज्य शासन द्वारा "समाधान योजना" लागू की गई थी।