भगवान राम की तपोस्थली में प्रतिमाह अमावस्या का है काफी महत्व…

एक अप्रैल को चित्रकूट में अमावस्या मेला, पहुंचेंगे दो लाख श्रद्धालु


सतना l एक अप्रैल को अमावस्या है। इस दिन खासतौर पर चित्रकूट में मेला का आयोजन होता है। जहां देश भर से लाखों श्रद्धालु मंदाकिनी स्नान कर कामतानाथ स्वामी के दर्शन करते हैं और कामदगिरि पर्वत की परिक्रमा करते हैं। इस बार दो लाख श्रद्धालुओं के पहुंचने की संभावना है। जिसके कारण सतना प्रशासन द्वारा प्रशासनिक तैयारियां भी तेज कर दी गई हैं। भगवान राम की तपोस्थली चित्रकूट में प्रतिमाह माह अमावस्या के दिन का काफी महत्व है। हर माह की अमावस्या में करीब 2 लाख से अधिक की संख्या में श्रद्धालु यहां आते हैं। कई दिन पहले से ही पैदल चलकर श्रद्धालु जुटने लगते है।

चैत्र अमावस्या से बढ़ा महत्व : चित्रकूट में इस बार अमावस्या और भी खास है। क्योंकि चैत्र एक अप्रैल को चैत्र अमावस्या होने पर प्रतिवर्ष भगवान राम को मानने वाले भी यहां पहुंचते हैं और मंदाकिनी में स्नान कर कामतानाथ स्वामी के दर्शन कर कामदगिरी पर्वत की पांच किलोमीटर लंबी परिक्रमा लगाते हैं। अमावस्या में स्नान कर दीप दान और सूर्य को अर्ध्य देने का भी महत्व होता है इससे मनुष्य के पाप कट जाते हैं और मोक्ष की प्राप्ति होती है। पुण्य नदियों में इस दिन स्नान का और भी खास महत्व होता है। चैत्र माह में ही श्रीराम नवमी का आयोजन होता है। इसलिए भी चित्रकूट में चैत्र माह का अधिक महत्व है।

इसलिए लोग लगाते हैं परिक्रमा : चित्रकूट आधा मध्य प्रदेश और आधा उत्तर प्रदेश की सीमा में है। चित्रकूट में कामदगिरि पर्वत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। यहां की मान्यता है, कि भगवान श्रीराम अपने 14 वर्ष के वनवास के दौरान साढे 11 वर्ष चित्रकूट में स्थित कामदगिरि पर्वत के घने जंगलों में ही गुजारे थे कामदगिरि पर्वत की विशेषता है, कि इसके चार प्रमुख द्वार चार अलग-अलग दिशा में है। श्रीराम इन्ही जंगल में निवास करते थे और यहां से निकलने के लिए उत्तर, पूर्व, पश्चिम और दक्षिण में एक-एक द्वार बनाया गया था। जब भगवान श्रीराम ने यहां से जाने लगे, तो चित्रकूट पर्वत ने उनसे कहा प्रभु आपने तो यहां वास किया है। इसलिए अब यह भूमि पवित्र हो गई। लेकिन आपके जाने के बाद हमें कौन पूछेगा।

सतना प्रशासन जुटा तैयारियों में : चित्रकूट में एक अप्रैल को लगने वाले अमावस्या मेला में अत्यधिक संख्या में आने वाले श्रृद्धालुओं को देखते हुए सतना प्रशासन ने भी तैयारियां की हैं। उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश शासन द्वारा संयुक्त रूप से जल, सुरक्षा, पुलिस, परिवहन की व्यवस्थाएं की हैं। इसके साथ ही कई सीसीटीवी कैमरों से भी लोगों पर नजर रखने व्यवस्थाएं बनाई गई हैं।