2002 में छः अन्य साथियों के साथ मिलकर डाली थी बस में डकैती…

पुलिस ने 20 वर्ष पूर्व हुई बस डकैती के मामले में फरार चल रहे बदमाश को किया गिरफ्तार

ग्वालियर। 25.03.2022 वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी को दिनांक 24.03.2022 को जरिये मुखबिर सूचना प्राप्त हुई कि थाना घाटीगाॅव क्षे़त्रान्र्तग हाईवे पर वर्ष 2002 में बालाजी ट्रेवल्स की वीडियो कोच बस में सषस्त्र बदमाषों के द्वारा लूट की घटना को अंजाम देने वाले बदमाषों में से एक बदमाष को बरेठा पुल के पास देखा गया हैै। उक्त सूचना पर से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर द्वारा अति. पुलिस अधीक्षक शहर(पूर्व/अपराध) ग्वालियर राजेष डण्डोतिया को काईम ब्रांच व पुलिस की टीम बनाकर आरोपी की गिरफ्तारी कराने हेतु निर्देषित किया गया। 

अति. पुलिस अधीक्षक शहर(पूर्व/अपराध) द्वारा अति. पुलिस अधीक्षक ग्रामीण जयराज कुबेर से समन्वय स्थापित कर क्राईम ब्रांच व थाना घाटीगांव की संयुक्त टीम बनाई गई। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देषों के परिपालन में डीएसपी अपराध रत्नेष सिंह तोमर एवं नागेन्द्र सिंह सिकरवार के मार्गदर्षन में थाना प्रभारी क्राइम ब्रांच निरीक्षक दामोदर गुप्ता एवं थाना प्रभारी घाटीगांव उप निरी. शैलेन्द्र सिंह के नेतृत्व में क्राइम बांच व थाना घाटीगाॅव पुलिस की संयुक्त टीम बनाकर मुखबिर के बताये स्थान से बदमाष को पकड़ने हेतु भेजा गया। पुलिस टीम को मुखबिर के बताये स्थान बरेठा पुल के पास एक संदिग्ध व्यक्ति खड़ा दिखा। 

जिसने पुलिस टीम को देखकर भागने का प्रयास किया, पुलिस टीम द्वारा उक्त संदिग्ध व्यक्ति को धरदबोचा। पकड़े गये बदमाष के द्वारा अपने साथियों के साथ मिलकर दिनांक 10.11.2002 को षिवपुरी से ग्वालियर की ओर आ रही बालाजी ट्रेवल्स की बस में ए.बी. रोड सिरसा से रेंहट के बीच सांय 07 बजे राजमार्ग पर बस को रोककर कट्टे दिखाकर बस में सबार यात्रियों जिनमें मुख्यतः व्यापारी शामिल थे, उनको लूट लिया गया था। तत्समय क्षेत्र में कुख्यात गड़रिया गैंग सहित कई गैंग का मूवमेंट होने से क्षेत्र में भारी दहषत का वातावरण बन गया था। 

ज्ञात हो कि पकड़े गये बदमाष द्वारा अपने अन्य 06 साथियों के साथ 10.11.2002 में बालाजी ट्रेवल्स बस की सवारियों एवं कण्डक्टर सेे 03 लाख 60 हजार रूपये की रकम लूट कर डकैती की घटना को अंजाम देकर सनसनी फैला दी थी और अपने साथियों सहित मौके से फरार हो गये थे। डकैती की घटना को अंजाम देने वाले आरोपियों में से छः आरोपियों को पुलिस द्वारा पूर्व में ही गिरफ्तार किया जा चुका है। घटना का एक आरोपी फरार था जिसकी गिरफ्तारी के लगातर प्रयास किये जा रहे थे। फरार आरोपी की गिरफ्तारी पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर द्वारा 10 हजार रूपये का ईनाम घोषित किया गया था। उक्त पकडे़ गये बदमाष के द्वारा गुजरात एवं अन्य स्थानों पर रहकर लम्बे समय तक फरारी काटी गई थी।