49 छात्रों को स्वर्ण पदक और 15 शोध छात्र- छात्राओं को मिलेगी उपाधि…

 29 मार्च को होगा राजा मानसिंह तोमर संगीत व कला विश्वविद्यालय का पांचवा दीक्षांत समारोह 


ग्वालियर। राजा मानसिंह तोमर संगीत व कला विश्वविद्यालय का पांचवा दीक्षांत समारोह 29 मार्च को होना है। इस बार का समारोह जीवाजी विश्वविद्यालय के अटल बिहारी वाजपेयी सभागार में भारतीय परिधान में होगा। समारोह की अध्यक्षता महामहिम कुलाधिपति मंगुभाई पटेल करेंगे। समारोह के मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर और विशिष्ट अतिथि प्रदेश की कला व संस्कृति मंत्री ऊषा ठाकुर होंगी। मुख्य समारोह के  शुभारंभ से पूर्व कुलसचिव के नेतृत्व में शोभायात्रा निकलेगी,  जिसमें साधारण परिषद के सदस्य, कार्यपरिषद के सदस्य, अकादमिक परिषद के सदस्य, वित्त समिति के सदस्य सहित सभी संकायाध्यक्ष, और कुलपति और कुलाधिपति  शामिल रहेंगे। विश्वविद्यालय के इस बार के दीक्षांत समारोह में कुल 49 स्वर्ण पदक दिए जाएंगे। 2018-19 के लिए 21 स्वर्ण पदक इनमें दानदाताओं द्वारा दिए जाने वाले 4 पदक भी शामिल हैं। इसके अलावा स्नात्कोत्तर स्तर पर कुल 13 स्वर्ण पदक, जिनमें से दानदाताओं द्वारा दिए जाने वाले 9 पदक शामिल हैं। 

2019- 20 में कुल 28 स्वर्ण पदक इनमे स्नातक स्तर पर 8 स्वर्ण पदक दिए जाएंगे, जिनमें दानदाताओं द्वारा दिए जाने वाले 4 पदक भी शामिल हैं। दिए जाने वाले इन स्वर्ण पदकों में  एक खास बात यह है कि इस बार किसी स्वाध्यायी छात्र को भी स्नातक स्तर पर स्वर्ण पदक दिया जाएगा। इसे विश्वविद्यालय के कार्यपरिषद सदस्य अतुल अधोलिया की ओर से  उनकी माता श्रीमती उमा और पिता हरिकांत सक्सेना की स्मृति में दिया जा रहा है। यह ‘उमाहरि‘ स्मृति स्वर्ण पदक गायन के स्नातक छात्र राहुल कुमार सोनी को दिया जा रहा है। इसके अलावा स्नातकोत्तर स्तर पर कुल 20 स्वर्ण पदक जिनमें से 16 पदक दानदाताओं द्वारा प्रदान किए जाने हैं। विभिन्न विषयों के प्रावीण्यता सूची में स्थान प्राप्त मेधावी विद्यार्थियों को दानदाताओं द्वारा प्रदाय किये जाने वाले स्वर्ण पदकों में इस वर्ष वृद्धि हुई है। इस वर्ष कुल 07 नवीन दानदाताओं द्वारा गायन, वादन, म्यूजिकोलाॅजी तथा नाट्य एवं रंगमंच विषयों हेतु स्वर्ण पदक प्रदान किये गये हैं। दीक्षांत समारोह में कुल 15 उपाधियां मंच से शोध छात्र- छात्राओं को प्रदान की जाएंगी। 

पंचम दीक्षान्त समारोह में मा. कुलपति जी द्वारा विश्वविद्यालय शोध केन्द्र के संगीत, नृत्य, ललितकला एवं नाट्य संकाय के 15 शोधार्थियों (गायन 03, सितार 01 तबला 01, कथक 03, भरतनाट्यम 01, चित्रकला 06) को शोध उपाधियाॅं प्रदान की जावेंगी। इस दीक्षान्त समारोह में तबला, सितार एवं भरतनाट्यम विषयों में पहली बार शोध उपाधियाॅं प्रदान की जा रही हैं। विश्वविद्यालय में शोध केन्द्र स्थापित होने से वर्तमान तक इन विषयों में शोध कार्य पूर्ण होने पर संगीत संकाय के अंतर्गत तबला विषय की पहली शोध उपाधि विश्वविद्यालय के अवनद्ध वाद्य विभाग के प्रभारी विभागाध्यक्ष एवं सहायक प्राध्यापक मनीष करवडे, सितार विषय की पहली शोध उपाधि इलाहाबाद के प्रवीण कुमार एवं नृत्य संकाय के अंतर्गत भरतनाट्यम विषय की पहली शोध उपाधि भोपाल की सुषमा मिश्रा प्राप्त करेंगी। दीक्षांत समारोह संबंधी जानकारी कुलपति प्रो. साहित्य  कुमार नाहर, कुलसचिव दिनेश पाठक, कार्यपरिषद सदस्य अतुल अधोलिया डाॅ. चंद्रप्रताप सिंह सिकरवार, समारोह की संयोजक प्रो. रंजना टोणपे और डाॅ. मनीष करवड़े आदि ने संयुक्त रूप से पत्रकारों को  दी l