चल रहा था रिश्ता डॉट कॉम नाम से फर्जी मेट्रीमोनियल कॉल सेन्टर…

क्राइम ब्रांच ने कॉल सेन्टर के जरिये ठगी करने वाले 06 लोगों को किया गिरफ्तार

 

ग्वालियर। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी को विगत कई दिनों से सूचना प्राप्त हो रही थी कि ग्वालियर जिली के अन्दर फर्जी तरीके से मेट्रीमोनियल काल सेन्टर चलाये जा कर ठगी का गोरख धंधा किया जा रहा है। उक्त सूचना पर से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा अति पुलिस अधीक्षक शहर (पूर्व / अपराध) राजेश डण्डोतिया को काइम ब्रांच की टीम बनाकर उक्त सूचना की तस्दीक करने हेतु मुखबिर तंत्र विकसित करने के लिये निर्देशित किया। दिनांक 28022022 को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर को पारिये मुखबिर सूचना प्राप्त हुई कि आदर्श कॉलोनी में रिश्त डॉट कॉम नाम से फर्जी मेट्रीमोनियल कॉल सेन्टर चलाया जा रहा है। एसएसपी ग्वालियर द्वारा एएसपी शहर-पूर्व अपराध को अपराध शाखा की टीम बनाकर उका फर्जी मेट्रीमोनियल कॉल सेन्टर संचालकों पर कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया। परिष्ठ अधिकारियों के निर्देशों के परिपालन में उप पुलिस अधीक्षक अपराध रत्नेश सिंह तोमर तथा नागेन्द्र सिंह सिकरवार के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी क्राइम ब्राच द्वारा भाना बल की टीम बनाकर उक्त सूचना की तस्दीक हेतु मुखबिर के बताये स्थान पर भेजा।

क्राइम ब्रांच की टीम को मुखबिर के बताये स्थान आदर्श कॉलोनी बैंक ऑफ महाराष्ट्र के पीछे वाली गली में स्थित मकान पर रिश्ते डॉट कॉम नाग का बोर्ड लगा गिला उक्त मकान के पौधी मंजिल पर जाकर देखा तो यहाँ पर एक कॉल सेन्टर संचालित किया जा रहा था। क्राइम टीम को मौके पर 02 लड़कियाँ ग्राहकों से फोन पर बात करती हुई मिली उक्त दोनों लड़कियों से पूछताछ करने पर उन्होंने बताया कि बिरला नगर तथा बहावंत नगर निवासी दो महिलाओं द्वारा यह कॉल सेन्टर संचालित किया जाता है, हम लोगों को ग्राहकों से बात करने के लिये फोन एवं सिम कार्ड भी संचालिका के द्वारा दिये जाते है। मेट्रीमोनियल रजिस्ट्रेशन कराने के लिये हम लोग ग्राहकों पर दबाव बनाते है. तथा उनसे कॉल सेन्टर के बैंक अकाउन्ट में पैसे ट्रान्सफर करवाते है। ग्राहकों द्वारा रुपये ट्रान्सफर करने के उपरान्त हम उनका नम्बर ब्लॉक कर देते हैं। रजिस्ट्रेशन की जानकारी हमारी डायरी एवं रजिस्टर में नोट रहती है। क्राइम टीम द्वारा कॉल सेन्टर की दोनों संचालिकाओं को पकड़कर उनसे पूछताछ करने पर दोनों संचालिकाओं द्वारा फर्जी मेट्रीमोनियल कॉल सेन्टर के जरिये लोगों से दगी करना स्वीकार किया गया।

काइम टीन द्वारा फर्जी मेट्रीमोनियल कॉल सेन्टर संचालिकाओं पर धारा 419, 420 मादवि का प्रकरण पंजीबद्ध कर दोनों आरोपियाओं से और अधिक पूछताछ करने पर उन्होंने बताया कि काली बिज कॉलोनी स्थित भारती निवास में विवाह बंधन नाम का एक और कॉल सेन्टर चलाया जा रहा है। उक्त सूचना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराते हुये क्राइम टीम द्वारा काल्पी ब्रिज कॉलोनी स्थित भारती निवास पर दबिश देकर विवाह बंधन नामक कॉल सेन्टर पर चार लड़कियों को फोन पर बात करते हुये पकड़ा पकड़ी गई लड़कियों से पूछताछ करने पर बताया कि वे लोग पिछले महीने से यहाँ काम कर रही है, हम लोगों को ग्राहकों से बात करने के लिये फोन एवं सिम कार्ड भी कॉल सेन्टर संचालिका के द्वारा दिये जाते है। मेट्रीमोनियल रजिस्ट्रेशन कराने के लिये हम लोग ग्राहकों पर दबाव बनाते है, तथा उनसे कॉल सेन्टर के बैंक अकाउन्ट में पैसे ट्रान्सफर करवाते हैं। ग्राहकों द्वारा रुपये ट्रान्सफर करने के उपरान्त हम उनका नम्बर ब्लॉक कर देते हैं। रजिस्ट्रेशन की जानकारी हमारी डायरी एवं रजिस्टरों में नोद रहती है। क्राइम टीम द्वारा कॉल सेन्टर संचालिका तथा उसके सहयोगी को पकड़कर उनसे पूछताछ करने पर दोनों के द्वारा फर्जी मेंट्रीमोनियल कॉल सेन्टर के जरिये लोगों से ठगी करना स्वीकार किया गया।

क्राइम टीम द्वारा फर्जी मेट्रीमोनियल कॉल सेन्टर संचालिका तथा उसके सहयोगी पर धारा 419, 420 भादवि का प्रकरण पंजीबद्ध कर दोनों आरोपियाओं से और अधिक पूछताछ करने पर दोनों ने बताया कि वह पिछले एक वर्ष से कॉल सेन्टर संचालित कर रहे हैं। हमारे एक सहयोगी द्वारा भी सत्यदेव नगर श्रीजी अपार्टमेन्ट में ऑनलाइन मैचिंग सेन्टर नाम से फर्जी मेट्रीमोनियल कॉल सेन्टर संचालित किया जा रहा है। क्राइम टीम ने उक्त सूचना से पुन वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराते हुये सत्यदेव नगर में स्थित श्रीजी अपार्टमेन्ट में संचालित ऑनलाइन मैचिंग सेन्टर नाम से फर्जी मेट्रीमोनियल काल सेन्टर पर दबिश दी दबिश के दौरान लड़कियों को उक्त कॉल सेन्टर पर कॉल पर बात करते हुये पाया उक्त चारों लड़कियों से पूछताछ करने पर उन्होने बताया कि गागंज निवासी सचालिका द्वारा अपने सहयोगी के साथ मिलकर ऑनलाइन मैच पाइन्ट बेबसाइट के जरिये ग्राहकों का रजिस्ट्रेशन करने के नाम पर उनसे ठगी की जाती है। ग्राहकों से बात करने के लिये मोबाइल फोन संचालिका उसके सहयोगी द्वारा हम सभी लोग को दिया जाता है, जिसे ऑफिस बन्द होने पर वापस ले लिया जाता है। हम लोग ग्राहकों की एन्ट्री अपनी वेबसाइट एवं रजिस्टर में करते हैं।

उक्त वेबसाइट संचालिका तथा उसके सहयोगी का यह कृत्य धारा 419, 420 नादवि का पाया जाने पर उक्त दोनों आरोपियों को पकड़ा जाकर उनसे पूछताछ करने पर दोनों ने अपना जुर्म स्वीकार करते हुये बताया कि हन विगत दो साले से इस वेबसाइट के जरिये लोगों से ठगी कर रहे हैं। क्राइम हाथ की टीम द्वारा उक्त 6 आरोपियों के विरूद्ध थाना काइम ब्रांच में धारा 419,420 का प्रकरण पंजीबद्ध कर तीनों दबिश में मिले रजिस्टर मोबाइल फोन, सिम कार्ड आदि सामान को विधिवत जप्त किया। क्राइम ब्रांच की टीम को रजिस्टर में लिखित जानकारी से ज्ञात हुआ है कि देश में करीब 1000 लोगों के साथ मेट्रीमोनियल साइट के जरिये ठगी की गई है। इनमें से ज्यादातर उ०प्र०, राजस्थान, छत्तीसगढ़, हरियाणा, दिल्ली, उडीसा, बिहार, महाराष्ट्र, उत्तराखण्ड एवं झारखण्ड के लोगों को दगी का शिकार बनाया गया है। काम ब्रांच द्वारा बैंक खातों की भी जांच की जा रही है. अभी तक 30-35 लाख रूपये की आरोपीणों द्वारा सामने आया है। आरोपों से जात अन्य सामग्री की भी जाँच की जा रही है. इससे कई महत्वपूर्ण तथ्य प्रकाश में जा सकते हैं।