आरोपियों की धरपकड हेतु क्राइम ब्रांच की टीम झारखंड रवाना…

सायबर क्राईम टीम ने BSNL का कर्मचारी बनकर ठगी करने वाले गिरोह का किया फर्दाफाश

 

ग्वालियर। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी को एक आवेदक द्वारा दिनांक 15.01.2022 को एक शिकायती आवेदन पत्र दिया था कि उसके पास बीएसएनएल का कर्मचारी बनकर काॅल आया कि आपकी सिम आज बंद हो जायेगी, एक्टिव करने के लिये उन्होने मेरा एटीएम कार्ड नम्बर ओटीपी लेकर मेरे खाते से 74991/- रूपये निकाल लिये। जिस पर से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर द्वारा आरोपियों पर कार्यवाही करने हेतु अति. पुलिस अधीक्षक क्राईम राजेश डण्डोतिया को क्राईम ब्रांच की सायबर टीम से उक्त शिकायत पर कार्यवाही कराने हेतु निर्देषित किया।

वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देषांे के परिपालन में उप पुलिस अधीक्षक क्राईम रत्नेश तोमर विजय भदौरिया के मार्गदर्षन में थाना प्रभारी क्राईम ब्रांच निरी। दामोदर गुप्ता द्वारा उक्त षिकायत पर थाना क्राईम ब्रांच में अपराध क्रमांक 3/2022 धारा 420 भादवि, 66डी आईटी एक्ट का प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। तकनीकी जानकारी के आधार पर आरोपियों की लोकेषन झारखंड में होना पाई गई। आरोपियों की धरपकड हेतु क्राइम ब्रांच की टीम झारखंड रवाना की गई।

क्राईम ब्रांच की टीम द्वारा झारखंड से उक्त प्रकरण से संबंधित सरगना सहित 02 बदमाषों को धरदबोचा। पकडे गये बदमाषों के पास से 04 बैंक चैकबुक, 04 बैंक पासबुक, 05 एटीएम कार्ड, 03 सिम, 02 मोबाइल एंव 10 हजार रूपये नगद जप्त किये गये। गिरफ्तार बदमाषों से पूछताछ करने पर उनके द्वारा बताया कि वह बीएसएनएल कंपनी बैंक का कर्मचारी बनकर पूरे देष में लोगांे को काॅल करके आॅनलाइन ठगी का कार्य करते है। बदमाषों द्वारा बताया गया कि वह काफी समय से सायबर ठगी का कार्य कर रहे है।

पकडे जाये इसलिये वह सायबर ठगी में प्रयुक्त होने वाली सिम मोबाइल को ज्यादा दिनों तक उपयोग में लेकर उन्हे नष्ट कर देते थे। थाना क्राईम ब्रांच की सायबर क्राईम टीम द्वारा बदमाषों के बैंक खातांे की जाॅच की जा रही है, जिससे पता लग सके कि बदमाषों द्वारा अभी तक कितने लोगों को ठगी का षिकार बनाया जा चुका है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर द्वारा उक्त बदमाषों को गिरफ्तार करने वाली टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।