जिनका राजनीति में आज भी चलता सिक्का, सत्ता बदली सल्तनत नहीं…

उत्तरप्रदेश की सियासत में बाहुबलियों का दबदबा !

 

राजनैतिक उत्तर प्रदेश सियासत में बाहुबलियों का दबदबा चलता रहा है l कई ऐसे नेता हैं जिन्होंने पहले तो अपराध की दुनिया में अपने नाम का डंका बजवाया और अब नेता बनकर वो देश की राजनीति का बेड़ा गर्क कर रहे हैं। देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश का हाल भी कुछ ऐसा ही है। यहां राजनीति और अपराध जगत का बेहद ही करीबी रिश्ता रहा है। यहां की सियासी जमीन पर कई ऐसे नेताओं ने राज किया है, जो अपराध की दुनिया के बेताज बादशाह हैं। अपहरण, हत्या से लेकर लूट-खसोट ये सभी काम उन अपराधियों ने किए हैं जो अब सूबे की राजनीति पर अपनी धाक जमाए हुए हैं l अपराध की दुनिया को तो नहीं छोड़ सके बल्कि उससे भी आगे बढ़कर वो राजनीति की दुनिया में प्रवेश कर गए।

मुख्तार अंसारी : इन्हें कौन नहीं जानता। एक माफिया-डॉन होने के साथ-साथ ये उत्तर प्रदेश के एक प्रमुख राजनेता भी हैं। इन्हें सूबे का बाहुबली नेता कहा जाता है। दबंगई के मामले में इनका कोई सानी नहीं है। मऊ विधानसभा क्षेत्र से ये पांच बार विधायक का चुनाव जीते हैं। 2010 में इन्हें आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त होने के कारण बहुजन समाज पार्टी ने पार्टी से निष्कासित भी कर दिया था, लेकिन फिर बाद में इन्हें पार्टी में शामिल कर लिया गया। इनके ऊपर कृष्णमंद राय की हत्या का भी आरोप लगा था, लेकिन सबूतों के अभाव में उन्हें बरी कर दिया गया था। मुख्तार अंसारी ने अपनी दबंगई के दम पर ठेकेदारी, खनन, खराब और रेलवे ठेकेदारी जैसे क्षेत्रों में अपना कब्जा जमा रखा है। वर्तमान में बांदा जेल में बंद हैं l

रघुराज प्रताप सिंह (राजा भैया) : रघुराज प्रताप सिंह के नाम से भले ही लोग कम वाकिफ हों, लेकिन उत्तर प्रदेश की राजनीति में  राजा भैया का नाम एक बाहुबली नेता के तौर पर लिया जाता है। राजा भैया पर डीएसपी जिलाउल हक सहित कई हत्याओं का आरोप है। उनके पैतृक निवास प्रतापगढ़ जिले की कुंडा तहसील के बारे में कहा जाता था कि राज्य सरकार की सीमाएं यहां खत्म हो जाती हैं, क्योंकि वहां उनका अपना ही राज चलता था। अमरमणि त्रिपाठी : अमरमणि त्रिपाठी को उत्तर प्रदेश के प्रभावशाली राजनेताओं में गिना जाता है। उन्हें दलबदलू नेता के तौर पर भी जाना जाता है, क्योंकि उन्होंने अपने राजनैतिक सफर में कई पार्टियों का दामन थामा। उनपर हत्या सहित कई मामले दर्ज हैं। फिलहाल वो कवियित्री मधुमिता शुक्ला की हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे हैं।

अतीक अहमद : उत्तर प्रदेश की राजनीति में अतीक अहमद को एक खतरनाक बाहुबली नेता के तौर पर जाना जाता है। वो देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की लोकसभा सीट फूलपुर से सांसद रह चुके हैं। उनपर हत्या की कोशिश, अपहरण, हत्या के करीब 42 मामले दर्ज हैं। राजनीति में आने के बाद भी ये आज तक अपराध की दुनिया से बाहर नहीं निकल पाए हैं। हरिशंकर तिवारी : गोरखपुर के रहने वाले हरिशंकर तिवारी सूबे के एक कुख्यात बाहुबली नेता हैं। रेलवे से लेकर पीडब्ल्यूडी की ठेकेदारी तक में इनका कब्जा है। इनके खिलाफ हत्या, हत्या की कोशिश, फिरौती और अपहरण के 25 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं। कहा जाता है कि हरिशंकर तिवारी जेल में रहकर चुनाव जीतने वाले पहले नेता हैं। उसके बाद ही ये सिलसिला चल पड़ा था।

- पंकज पाराशर, छतरपुर