संभागीय स्वच्छता कार्यशाला में अधिकारियों को दिए दिशा-निर्देश…

स्वच्छता सर्वेक्षण के लिए सभी किसी भी प्रकार की लापरवाही करें : संभागायुक्त

 

ग्वालियर। स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 की तैयारियों को लेकर सभी निकायों के अधिकारी सक्रिय रुप से जुट जाएं तथा सर्वेक्षण के सभी मापदंडों को पूर्ण करें और यह भी ध्यान रखें कि अनेक ऐसे छोटे-छोटे कार्य करके अंक अर्जित किए जा सकते हैं जो कि हम प्रतिदिन करते हैं। इसलिए इस कार्यशाला में समझकर अपने निकाय में सक्रियता से कार्य करें। संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने नगर निगम कार्यालय के सभाकक्ष में स्वच्छता सर्वेक्षण के लिये आयोजित संभागीय कार्यशाला में शिवपुरी एवं मुरैना के अधिकारियों से यह बात कही।

स्वच्छता सर्वेक्षण-2022 की तैयारियों के लिये ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिलों के स्वच्छता से जुड़े अधिकारियों को ग्वालियर नगर निगम द्वारा किए जा रहे स्वच्छता सर्वेक्षण-2022 की तैयारियों के लिये कार्यों का अवलोकन कराया जा रहा है। सोमवार को शिवपुरी एवं मुरैना जिले के अधिकारियों को ग्वालियर निगम के विभिन्न साइडों का भ्रमण कराने के साथ ही नगर निगम कार्यालय के सभाकक्ष में कार्यशाला का आयोजन भी किया गया। कार्यशाला में कलेक्टर मुरैना, नगर निगम आयुक्त किशोर कान्याल सहित स्वचछता से जुड़े शिवपुरी एवं मुरैना के साथ ही ग्वालियर नगर निगम के अधिकारीगण भी उपस्थित थे। संभाग आयुक्त श्री सक्सेना ने कार्यशाला में बताया कि स्वच्छता सर्वेक्षण-2022 में नगरीय निकायों के साथ-साथ सम्पूर्ण जिले की भी रैंकिंग की जायेगी।

जिला कलेक्टर अपने-अपने जिले में सर्वेक्षण से पूर्व सभी आवश्यक तैयारियां अवश्य कर लें। इसके साथ ही सर्वेक्षण में की जा रही गतिविधियों को स्वच्छ भारत मिशन की साइट पर भी अपलोड किया जाए। उन्होंने कहा कि सर्वेक्षण में जिन गतिविधियों के नम्बर हैं, उन गतिविधियों को निर्धारित समय पर ही करें ताकि सर्वेक्षण के दौरान अंक मिल सकें। संभाग आयुक्त आशीष सक्सेना ने यह भी कहा कि फरवरी माह में आयोजित स्वच्छता संकल्प माह में स्वच्छता सर्वेक्षण-2022 में प्रत्येक नगरीय निकाय को ओडीएफ़़ प्रमाणीकरण प्राप्त करने, गार्वेज फ्री सिटी स्टार रैंकिंग में नगर निगमों को फाइव स्टार तथा अन्य नगरीय निकायों को न्यूनतम थ्री स्टार प्राप्त करना है।

इसके साथ ही स्वच्छता सर्वेक्षण की प्रेरक दौड़ श्रेणी में सभी नगरीय निकायों को कम से कम दो गोल्ड - सिल्वर प्राप्त करना है। कार्यशाला में उपस्थित सभी लोगों को प्रजेण्टेशन के माध्यम से स्वच्छता सर्वेक्षण-2022 में किस प्रकार से अंक विभाजित हैं और उसके लिये क्या-क्या गतिविधियां की जाना है, इसके संबंध में विस्तार से जानकारी दी। कलेक्टर ग्वालियर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह एवं कलेक्टर दतिया संजय कुमार ने अपने -अपने जिलों के नगरीय निकायों में किए जा रहे कार्यों के संबंध में भी अपनी बात रखी।