मध्यप्रदेश में शासन के साथ इस युद्ध में साथ खड़ा है आमजन…

तीसरी लहर को जनसहयोग के मॉडल से रोकेंगे : CM

 

ग्वालियर। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोविड के नियंत्रण में मध्यप्रदेश का जन-भागीदारी मॉडल तीसरी लहर में भी काम आएगा। कोविड की पहली और दूसरी लहर में जिस तरह से जन-सहयोग से संकट की स्थितियों से निपटते हुए कार्य हुआ है उसी तरह एक बार फिर सरकार और नागरिक मिलकर तीसरी लहर को पराजित करेंगे। संयुक्त रूप से किए जाने वाले प्रयत्नों को सफलता मिलेगी, मानवता जीतेगी। मुख्यमंत्री आज वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा निवास से प्रदेश के जिलों में कोविड की स्थिति, किए जा रहे प्रयासों की जानकारी ले रहे थे।श्री चौहान ने क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्यों से संवाद कर उनके सुझाव प्राप्त किए। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और राज्य के मंत्री भी वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा चर्चा और बैठक में शामिल हुए।

 मुख्यमंत्री निवास से हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी उपस्थित रहे। श्री चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंस से जुड़े सभी जन-प्रतिनिधियों और अधिकारियों को मकर संक्रांति की शुभकामनाएँ दी। श्री चौहान ने कहा कि होम आयसोलेशन में ही सबसे ज्यादा लोग रहेंगे, इनका ध्यान रखें, सावधानियों से अवगत करवाएँ। यह महत्वपूर्ण है। प्रदेश में अभी 21 हजार 394 मरीज होम आयसोलेशन में हैं। इन्हें आवश्यक सुविधाएँ दी जा रही हैं। मुख्यमंत्री 17 जनवरी को कलेक्टर्स कांफ्रेंस में पुनः टीकाकरण कार्य और संक्रमण नियंत्रण की समीक्षा करेंगे।

यहाँ कलेक्ट्रेट स्थित एनआईसी के वीडियो कांफ्रेसिंग कक्ष में बीज एवं फार्म विकास निगम के अध्यक्ष मुन्नालाल गोयल, पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल मदन कुशवाह, भाजपा जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी एवं प्रदीप जैन सहित क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के अन्य सदस्यगण और कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक अमित सांघी, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आशीष तिवारी अपर कलेक्टर इच्छित गढ़पाले सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे

प्रमुख निर्देश -

  • कक्षा एक से 12वीं तक के सरकारी, प्रायवेट स्कूल 15 जनवरी से 31 जनवरी तक बंद रहेंगे।
  • राज्य में किसी तरह के मेले नहीं लगेंगे।
  • सब रैलियाँ और सभाएँ प्रतिबंधित रहेंगी।
  • हॉल की क्षमता के 50 प्रतिशत से कम की उपस्थिति के साथ कार्यक्रम हो सकेंगे।
  • सभी मनोरंजन के कार्यक्रम में अधिकतम 250 व्यक्ति रहेंगे।
  • बड़ी सभाएँ और आयोजन प्रतिबंधित रहेंगे।
  • सभी प्रकार की खेल गतिविधियाँ स्टेडियम की 50 प्रतिशत से खिलाड़ी रहेंगे।
  • प्री बोर्ड परीक्षाएँ जो 20 जनवरी से थीं, इन्हें टेक होम एग्जाम के रूप में किया जाएगा।
  • नाइट कर्फ्यू जारी रहेगा।
  • अंत्येष्टि आदि में हिस्सा लेने के लिए 50 लोगों की ही सीमा रहेगी।
  • कहीं भी बाजार बंद नहीं होंगे। आर्थिक गतिविधियाँ जारी रहेंगी।
  • सामाजिक दूरी बनाए रखें। सभी लोग फेस मॉस्क का उपयोग करें। सार्वजनिक स्थान पर इसका उपयोग अनिवार्य है। फेस मॉस्क का उपयोग करने पर जुर्माने की कार्यवाही की जाएगी।