मैदान में बिखरे मिले 80 शव और कंकाल…

भोपाल में BJP नेत्री की गौशाला में मिलीं कई गायों लाशें

 

भोपाल के बैरसिया में भाजपा नेत्री निर्मला देवी शांडिल्य की गौशाला में कई गायों की मौत हो गई। रविवार को गौशाला में बने कुएं में 20 गायों के शव मिले हैं। 80 से ज्यादा गायों के शव और कंकाल मैदान में पड़े मिले हैं। 8 गायों की मौत शनिवार को ही हुई है। इसकी जानकारी लगने के बाद मौके पर बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए। संचालिका निर्मला देवी पर केस दर्ज हो गया है। वहीं प्रशासन ने गौशाला का संचालन अपने हाथ में ले लिया है। विरोध को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल भी तैनात किया गया है। निर्मला देवी 20 साल से गौशाला का संचालन कर रही हैं। निर्मला देवी ने भास्कर से बातचीत में बताया कि मैं भाजपा की नेता हूं। 30 साल से सक्रिय कार्यकर्ता रही हूं। भाजपा से ब्लॉक अध्यक्ष रही हूं। मंडी सदस्य भी रही हूं।

पहले मंडी वाली और अब गौशाला वाली मैडम के नाम से जानी जाती हूं। ठंड के कारण 3-4 गायें मर गई हैं। हम कितना ध्यान दें। पन्नी (पॉलीथिन) के कारण मौत हो जाती हैं। मैं बुजुर्ग महिला हूं। मुझे परेशान किया जा रहा है। जो आरोप लगा रहे हैं, वो हमारे विरोधी हैं। हमारे पास 400 गायें हैं। अधिकतर गायें किसानों की हैं। घटना की जानकारी के बाद कलेक्टर अविनाश लवानिया समेत प्रशासन के अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे थे। विरोध कर रहे लोगों को अफसरों ने किसी तरह शांत कराया। लोगों का कहना है कि पखवाड़े भर में बड़ी संख्या में गायों की मौत हुई है। प्रशासन की टीम गायों के शव की गणना करने में जुटी है। कलेक्टर ने कहा कि गौशाला का संचालन फिलहाल प्रशासन ने अपने हाथ में ले लिया है। कलेक्टर का कहना है कि मामले की जांच कराई जाएगी। घटनास्थल का निरीक्षण किया गया है। गायों की मौत का कारण जानने के लिए कुछ गायों के शवों का परीक्षण भी कराया जाएगा।

कलेक्टर लवानिया के साथ जिला पंचायत सीईओ विकास मिश्रा, जनपद सीईओ और स्थानीय अधिकारी भी वहां मौजूद रहे। बैरसिया में BJP नेत्री द्वारा संचालित गौशाला को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि बैरसिया भोपाल जिले में कई वर्षों से भाजपा नेता शांडिल्य द्वारा संचालित गौशाला में गाय की हड्डी चमड़े का व्यापार चला हुआ था। आज लगभग 500 से अधिक गाय मृत पाई गईं। दिग्विजय ने मांग की है कि इस गौशाला के संचालक मंडल पर गौ हत्या का प्रकरण दर्ज किया जाए। क्या शांडिल्य चमड़े और हड्डियों का व्यापार कर रहीं थीं? इसकी भी जांच होना चाहिए। इस गौशाला को पिछले वर्षों में जो अनुदान मिला है उसकी भी जांच होना चाहिए।