बेरोजगारों को जॉब दिलावाने के नाम पर…

सायबर फ्रॉड करने वाला अंतर्राज्यीय गैंग गिरफ्तार

भोपाल। पुलिस आयुक्त भोपाल मकरन्द देउस्कर, अति. पुलिस आयुक्त भोपाल इरशाद वली एवं पुलिस उपायुक्त सॉई कृष्णा थोटा के द्वारा दिये गये निर्देश के पालन में अतिण् पुलिस उपायुक्त जोन.1 भोपाल अंकित जायसवाल एवं सहायक पुलिस आयुक्त सायबर के मार्गदर्शन में सायबर क्राइम ब्रांच जिला भोपाल की टीम द्वारा नौकरी के नाम पर बैंक खाता खुलवाकर धोखाधड़ी करने वाले बिहारी गिरोह के 6 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया हैं। दिनांक 13 दिसम्बर 2021 को आवेदिका निवासी भोपाल के द्वारा सायबर क्राईम ब्रांच जिला भोपाल में लिखित शिकायत आवेदन दिया गया कि आयुष लिटोरिया नामक व्यक्ति के द्वारा नौकरी दिलाने का लालच देकर बोला कि सैलरी के लिये बैंक में खाता खुलवाना पड़ेगा और वेरिफिकेशन के लिये बैंक पासबुक और एटीएम वेरिफिकेशन के लिये मेरे पास जमा करना पड़ेगा। फरियादिया ने केनरा बैंक में खाता खुलवाकर पासबुक और एटीएम आयुष लिटोरिया नामक व्यक्ति को दे दिये। 

पासबुक और एटीएम आयुष देने के कुछ दिनों के बाद फारियादिया को जानकारी प्राप्त हुई कि उसके बैंक खाते में अत्याधिक मात्रा में ट्रान्जेक्शन हो रहे हैं जिसके कारण कैनरा बैंक के अधिकारी फरियादी का वेरिफिकेशन करने उसके घर तक पहुंचे मानसिक रुप से परेशान होकर फरियादिया द्वारा सायबर जिसकी शिकायत फरियादिया के द्वारा सायबर क्राईम ब्रांच जिला भोपाल में की गई। शिकायत आवेदन में आये तथ्यों एंव बैंक से प्राप्त जानकारी के आधार पर बैंक खाता एंव लिंक मोबाईल नंबर के उपयोग कर्ताओं के विरुध्द अपराध क्रमांक 329ध्21 धारा 420 भादवि का पंजीबध्द कर विवेचना में लिया गया। आरोपी आयुष लिटोरिया बेरोजगार लोगों से संपर्क कर कंपनी नौकरी दिलाने के नाम पर बैंक में खाता खुलवाता हैं। बैंक खाते में लिंक करने के लिये अपनी कंपनी नाम से दुसरे मोबाईल नंबर प्रदाय करता हैं। फिर उसी मोबाईल नंबर पर दमज इंदापदह चालू करके सिम अपने पास रख लेते हैं उसके बाद सैलरी का वैरिफिकेशन करने के नाम पर खाता पासबुक और एटीएम भी लेते हैं। सिम तथा फरियादियों व अन्य किसी को पता न चले इसीलिए खाता पासबुकए एटीएम व सिम एक आरोपी से दूसरे आरोपी करके चैन बनाते हुए बिहारी गैग को बेच देते है। 

बिहार निवासी मोहम्मद अजरूद्दीन उर्फ डक् जो भोपाल में रहकर पढ़ाई भी कर चुका हैं उसके जरिए ये खाताए सिम व एटीएम बिहार भेजते हैं। इन खाता सिम व एटीएम कार्ड को भी पार्सल के जरिए और कभी आलोक व राहुल स्वयं की गाड़ी से मण्प्रण् आकर ले जाते हैं। अभी तक आरोपीगणों द्वारा संयुक्त रूप से लगभग सभी राज्यों में बैंक खाता पासबुकए सिमकार्ड एवं एटीएम कार्ड बेंचने के इलेक्ट्रोनिक साक्ष्य प्राप्त हुए है। सायबर क्राईम जिला भोपाल की टीम द्वारा अपराध कायमी के पश्चात् त्वरित कार्यवाही कर तकनीकी एनालिसिस से प्राप्त साक्ष्यों के आधार पर भोपाल से कुल 6 आरोपीगण को गिरफ्तार किया गया एंव आरोपीगणों से अपराध में प्रयुक्त बैंक पास बुक व एटीएम कार्ड तथा इसके अतिरिक्त बैंक पासबुक. 25ए एटीएम कार्ड. 22ए मोबाईल फोन मय सिम कार्ड. 22ए सिम. 18 देशी कट्टे दृ 02 और एक महिन्द्रा स्कार्पियो कार को जप्त किया गया हैं। आरोपीगणों द्वारा अभी तक सायबर फ्रॉड के लिए प्राप्त किये गये खातों के बारे में पूछतांछ व अन्य आरोपियों की तलाश जारी है।