शहीद स्मारक पर राष्ट्रीय ध्वज हाई स्तम्भ और लाइटिंग का किया लोकार्पण…

चम्बलांचल को वीरता के लिये सदियों से जाना जाता है : केन्द्रीय कृषि मंत्री

मुरैना। चम्बलांचल में वीरता के साथ आध्यात्म, साहित्य तथा पुरातत्व विद्यमान है, इससे नई पीढ़ी को अवगत कराने की निरंतर आवश्यकता है। देश विदेश में चम्बलांचल की वीरता को सदियों से जाना जाता है। इसी के कारण आज देश सुरक्षित है। यहां का नौजवान देश की सीमा रक्षा के लिये तैनात है। यह विचार केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने व्यक्त किये। श्री तोमर मंगलवार की शाम शहीद स्मारक पर ध्वज स्तंभ पर ध्वजारोहण कर रहे थे। उन्होंने शहीद स्मारक को आकर्षक बनाने के लिये लगाई गईं विद्युत लाइटों का भी लोकार्पण किया।

इस अवसर पर जिला पंचायत की अध्यक्ष गीता इंदर हर्षाना सहित उपस्थित विशिष्ठ अतिथियों द्वारा दीप प्रज्ज्वलन कर किया। मौके पर कलेक्टर बक्की कार्तिकेयन, पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी रोशन कुमार सिंह ने अतिथियों का पुष्पगुच्छ भेंट कर स्वागत किया। इससे पूर्व श्री तोमर ने शहीद स्मारक पर सेन्य सम्मान के साथ श्रद्धांजलि अर्पित की। मुरैना के शहीद स्मारक पर 100 फुट ऊंचा ध्वज स्तंभ स्थापित किया गया है। ध्वजारोहण पश्चात केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि देश में कुछ लोग देश के लिये बलिदान हो जाते हैं। उसमें चम्बल की धरा का बड़ा योगदान है। 

नये भारत के निर्माण में चम्बल का योगदान हो इसके लिये नवीन पीढ़ी को प्रेरित किया जाना चाहिए। चम्बल की यह धरती आध्यात्म के क्षेत्र में भी परिपूर्ण है। त्रेतायुगीन शनि मंदिर, नागाजी महाराज, बाबा जयराम दास पटिया वाले जैसे अनेक संतों की धार्मिक गाथाऐं प्रचलन में है। मुरैना में स्थापित ककनमठ, मितावली, पढ़ावली, नरेश्वर, बटेश्वरा, लिखी छाज जैसे एतिहासिक पुरातत्व स्थल दुनिया का विचार चम्बल के प्रति बदल सकते हैं। चम्बल की इन खुबियों को देशभर के लोगों को बताने के लिये ही अमर शहीद पंडित रामप्रसाद विस्मिल पुरातत्व संग्रहालय का निर्माण किया गया है। अंचल में औद्योगिक क्षेत्र भी परिपूर्ण है। 

नई इकाईयों के गठन से रोजगार के अवसर सृजित हो रहे हैं। इसी तरह चम्बल नदी में विचरण कर रहे विलुप्त प्रायः जलीय जीव देश विदेश को आकर्षित करने के लिये काफी हैं। कृषि के क्षेत्र में तिलहन, अनाज व उद्यानकी के क्षेत्र में किये जा रहे कार्यों के परिणाम उत्कृष्ट आ रहे हैं। यह स्मारक वीरों के त्याग, तपस्या व बलिदान की गाथा को अवगत कराने के लिये था। इस अवसर पर पांचवीं वाहिनी के बैंड दल द्वारा राष्ट्रीय धुन व देशभक्ति से ओतप्रोत गीत की धुन से उपस्थितजन को उत्साहित किया। वहीं सांस्कृतिक दल द्वारा राष्ट्रीय गीत प्रस्तुत कर लोगों में जोश भरने का कार्य किया। 

कार्यक्रम में पूर्व मंत्रीगण मुंशीलाल, रूस्तम सिंह, गिर्राज डण्डौतिया, विधायक कमलेश जाटव, पूर्व सांसद अशोक अर्गल, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हमीर सिंह पटेल, समाजसेवी योगेशपाल गुप्ता, केदार सिंह यादव सहित सेवानिवृत्त सैनिक व गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। कार्यक्रम में पुलिस, एसएएफ, एनसीसी व स्काउड् एण्ड गाइड्स दल ने सैन्य सम्मान के साथ शहीदों को श्रद्धांजलि तथा ध्वजारोहण के दौरान सलामी दी। नगर पालिक निगम मुरैना द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम का संचालन स्वच्छता एम्बेसडर शिल्पी जैन तथा आभार प्रदर्शन आयुक्त संजीव जैन ने किया। 

उपस्थित गणमान्य नागारिकों ने श्रद्धांजलि अर्पित की। केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने शहीद स्मारक पर पुष्पचक्र अर्पित कर अमर शहीदों को श्रद्धांजली दी। यह आयोजन जिला प्रशासन के तत्वाधान में किया गया। कार्यक्रम के प्रारंभ में कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक और जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने अतिथियों का स्वागत पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित किया। केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने इस अवसर पर कहा कि सैन्य सेवा में लोगों को प्रशिक्षण एवं शिक्षण देने के लिये चंबल की धरा पर सैनिक स्कूल आरंभ होगा।