जनजातीय गौरव सप्ताह का समापन…

आज 318 करोड़ के कार्यों का भूमिपूजन करेंगे CM शिवराज

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार को मंडला में जनजातीय गौरव सप्ताह का समापन करेंगे। इस दौरान मुख्यमंत्री 318 करोड़ के कार्यों का भूमिपूजन करेंगे। साथ ही, 26 करोड़ के निर्माण का लोकर्पण भी किया जाएगा। खास बात है कि मंडला में महाकौशल के आदिवासी बहुल जिलों से राज्य सरकार की योजनाओं के हितग्राहियों को बुलाया गया है। कार्यक्रम के दौरान 123 गांवों को 11,310 हेक्टेयर के सामुदायिक वन अधिकार-पत्र दिए जाएंगे। मुख्यमंत्री 6 गांव के 148 बैगा परिवारों को पट्टा वितरित करेंगे। मंत्रालय सूत्रों का कहना है कि मध्य प्रदेश में पंचायत चुनाव की घोषणा जल्दी होने वाली है। चुनाव से पहले बीजेपी आदिवासी वोटर्स को साधने का कोई मौका हाथ से जाने नहीं देना चाहती। 

लिहाजा, आदिवासियों तक सरकारी योजनाएं पहुंचाने की कवायद तेजी से की जा रही है। यही वजह है कि मुख्यमंत्री 4 दिसंबर को महू के पाताल पानी में सभा करेंगे। यह इलाका भी आदिवासी बाहुल्य है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मंडला के राजराजेश्वरी किला वार्ड में जननायक शंकर शाह-रघुनाथ शाह की प्रतिमा स्थापित करने के लिए भूमिपूजन करेंगे। सम्मेलन में कार्यक्रम में गोंड, बैगा सहित मंडला जिले की सभी प्रमुख जनजातियों के लोग शामिल होंगे। इस दौरान मुख्यमंत्री गोंड राजवंश के राजाओं के प्रति सम्मान भी व्यक्त करेंगे। सभा स्थल पर जनजातीय जीवन संस्कृति पर आधारित प्रदर्शनी 'एक जिला-एक उत्पाद" में महिला स्व-सहायता समूह कोदो-कुटकी के उत्पाद प्रदर्शित करेंगे। मुख्यमंत्री यहां विभिन्न योजनाओं के तहत हितग्राहियों को लाभान्वित करेंगे। 

मुख्यमंत्री जनजातीय महिला स्व-सहायता समूहों को 10 करोड़ रुपए का ऋण और 5 हजार जनजातीय परिवारों को बांस के पौधे भी बांटेंगे। कार्यक्रम के दौरान गोंडी पेंटिंग और स्थानीय कलाकार जनजातीय जीवन को दिखाती चित्रकला को प्रदर्शित करेंगे। मध्य प्रदेश में दो साल बाद वर्ष 2023 में विधानसभा चुनाव होंगे। प्रदेश कांग्रेस ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। आदिवासी वर्ग को पार्टी के साथ जोड़कर रखने के लिए 24 नवंबर को भोपाल में आदिवासी कांग्रेस की बैठक बुलाई है। वहीं, अनुसूचित जाति वर्ग को साधने के लिए कार्ययोजना 26 नवंबर को बनाई जाएगी। इसके लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ ने अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के पार्टी के सभी विधायक, 2018 के चुनाव के प्रत्याशी, प्रदेश पदाधिकारी, जिला और ब्लाक कांग्रेस अध्यक्षों की बैठक बुलाई है। 

पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर ने बताया कि पार्टी के सभी सहयोगी संगठनों की समीक्षा की जा रही है। इसमें मैदानी स्थिति की जानकारी लेने के साथ विधानसभा, नगरीय निकाय और पंचायत चुनावों को ध्यान में रखते हुए आगामी कार्यक्रम तय किए जाएंगे। इसके लिए 24 नवंबर को होने वाली बैठक में विचार करके कार्ययोजना बनाई जाएगी। इसी तरह, अनुसूचित जाति वर्ग को पार्टी के साथ जोड़ने के लिए प्रदेशभर से 26 नवंबर को बैठक में आने वाले नेताओं के साथ मंथन किया जाएगा। दरअसल, 2018 के चुनाव में जिन अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित सीटों पर चुनाव में जीत हासिल की थी, उनमें सत्ता परिवर्तन के बाद 8 सीटों पर उपचुनाव हुए थे। इनमें कांग्रेस 5 सीटें हार गई थी।