लैंड डिजिटाइजेशन में सराहनीय कार्य कर अग्रणी बनकर उभरा मध्यप्रदेश…

एमपी में गति भी है और विकास की ललक भी : PM मोदी

ग्वालियर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि मध्यप्रदेश गजब है और देश का गौरव भी, साथ ही मध्यप्रदेश में गति भी है और विकास की ललक भी। यहाँ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश की जनता के हित में योजनाओं को जमीन पर उतारने के लिए दिन-रात एक कर बेहतर तरीके से लागू किया जा रहा है। यह जब-जब मैं देखता हूँ मुझे बहुत आनंद आता है। मध्यप्रदेश ने खास अंदाज में स्वामित्व योजना में भी बेहतर काम किया है। मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में मध्यप्रदेश लैंड डिजिटाइजेशन के क्षेत्र में सराहनीय कार्य कर अग्रणी बनकर उभरा है।

"एमपी है तो गजब है। एमपी देश का गौरव भी है।

एमपी में गति भी है और विकास की ललक भी है।

लोगों के हित में कोई योजना बनते ही मुख्यमंत्री

शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में उस योजना को

जमीन पर उतारने दिन रात एक कर दिया जाता है ये

जब जब में देखता हूं मुझे बहुत आनंद आता है"

- नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना में मध्यप्रदेश के 19 जिलों के 3 हजार गाँव के एक लाख 71 हजार ग्रामीणों को वर्चुअली अधिकार अभिलेखों का वितरण कर संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने की। हरदा जिला मुख्यालय पर आयोजित इस राज्य स्तरीय कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्रियों सहित मध्यप्रदेश के मंत्री भी शामिल हुए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अधिकार अभिलेखों का वितरण कर हरदा, डिंडौरी और सीहोर जिले के अधिकार अभिलेख प्राप्त हितग्राहियों से वर्चुअल संवाद भी किया। 

प्रधानमंत्री मोदी आज स्वामित्व योजना में मध्यप्रदेश के 19 जिलों के 3 हजार गाँव के एक लाख 71 हजार ग्रामीणों को वर्चुअली अधिकार अभिलेखों का वितरण कर संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने की। हरदा जिला मुख्यालय पर आयोजित इस राज्य स्तरीय कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्रियों सहित मध्यप्रदेश के मंत्री भी शामिल हुए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अधिकार अभिलेखों का वितरण कर हरदा, डिंडौरी और सीहोर जिले के अधिकार अभिलेख प्राप्त हितग्राहियों से वर्चुअल संवाद भी किया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है क्योंकि आज के दिन ही नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के रूप में 20 वर्ष का कार्यकाल पूर्ण हो गया है। इस ऐतिहासिक अवसर पर प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना के हितग्राहियों को अधिकार अभिलेख प्रदान किये जा रहे हैं। 

मुख्यमंत्री चौहान ने प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत करते हुए बताया कि प्रदेश में एक करोड़ 23 लाख लोग संचार के विभिन्न माध्यमों से इस कार्यक्रम को लाइव देख रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश का सम्मान विश्व में बढ़ा है। उनके कार्यकाल में देश की करोड़ों महिलाओं को उज्जवला योजना के माध्यम से चूल्हे के धुएँ से मुक्ति मिली है। जन-धन योजना से देश में करोड़ों लोगों के बैंक खाते खोले गये हैं और मुद्रा योजना के तहत 29 करोड़ लोगों को व्यवसाय स्थापित करने के लिये बिना गारंटी के बैंक से ऋण दिलाया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में स्वामित्व योजना लागू होने से जहाँ ग्रामीणों को भूमि के अभिलेख उपलब्ध होंगे, वहीं इन अभिलेखों के आधार पर अब ग्रामीणजन बैंक से घर बनाने या दुकान खोलने के लिये ऋण भी ले सकेंगे। मुख्यमंत्री ने हरदा जिले में सौर ऊर्जा से रौशन हुए 380 आँगनवाड़ी भवनों का लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री ने हरदा प्रशासन के इस नवाचार की सराहना की। 

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने हरदा जिले की "विकास गाथा" पुस्तिका का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री ने बॉस मिशन के अंतर्गत तीन हितग्राहियों पवन कुमार भायरे निवासी सिराली, गजराज सिंह निवासी लौरा तथा प्रेमनारायण रायखेरे निवासी सनगाव बाँस पौधे की अनुदान राशि का वितरण किया। कार्यक्रम में कृषि मंत्री और किसानों ने मुख्यमंत्री को कृषि यंत्र हल भेंट किया। कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि ग्रामीण सम्पति धारकों की जिस सम्पत्ति का मूल्य अभी सरकारी अभिलेख में शून्य था, वह लाखों में हो जायेगा और छोटी से छोटी सम्पत्ति के धारक ग्रामीण स्वामित्व योजना के माध्यम से लोग लखपति बन जायेंगे। कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि ग्रामीणों को अभी तक उनकी सम्पत्ति पर बैंक ऋण नहीं देती थी। इस योजना के लागू हो जाने से अब ग्रामीणों को बैंक से सम्पत्ति पर ऋण व जमानत की सुविधा मिलने लगेगी। स्वामित्व योजना से ग्रामीणों को सही मायने में अब आर्थिक आजादी मिलेगी। 

प्रदेश के राजस्व मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत ने कहा कि प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना के तहत आबादी सर्वे से ग्रामीणों को उनकी सम्पत्ति के अधिकार अभिलेख उपलब्ध हो जायेंगे। साथ ही प्रत्येक सम्पति धारक को सम्पत्ति का स्वामित्व प्रमाण-पत्र मिल जायेगा। स्वामित्व प्रमाण-पत्र मिलने से इस सम्पति पर बैंक से ऋण लेना आसान होगा तथा सम्पत्तियों के पारिवारिक विभाजन व सम्पत्ति हस्तांतरण की प्रक्रिया भी आसान हो जायेगी। हरदा जिले के प्रभारी एव जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, कृषि मंत्री कमल पटेल, वन मंत्री डॉ. विजय शाह, राजस्व मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत, सांसद दुर्गादास उइके सहित विधायक सहित अन्य बड़ी संख्या में नागरिक भी मौजूद थे। यहाँ ग्वालियर स्थित एनआईसी के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कक्ष में सांसद विवेक नारायण शेजवलकर, जिला पंचायत प्रशासकीय समिति के उपाध्यक्ष शांतिशरण गौतम व भाजपा जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण और संबंधित अधिकारी मौजूद थे।