गृहमंत्री का आतंक को कड़ा संदेश…

शांति भंग करने वालों के विरूद्ध होगी कड़ी कार्रवाई : अमित शाह

आर्टिकल 370 को निष्प्रभावी बनाए जाने के बाद शनिवार को जम्मू कश्मीर की अपनी पहली यात्रा पर आये केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आतंकवादियों के हमले में मारे गये लोगों के परिजन से मुलाकात की और शांति भंग करने वाले लोगों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई का वादा किया। उन्होंने यह भी दोहराया कि परिसीमन के बाद केंद्रशासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव होंगे और उसके बाद राज्य का दर्जा बहाल किया जाएगा और आतंक पर सरकार की जीरो टॉलरेंस नीति जारी रहेगी। गृह मंत्री अमित शाह का जम्मू-कश्मीर दौरे का आज दूसरा दिन है। आज वो जम्मू में रहेंगे। कल की तरह आज भी उनका बेहद ही व्यस्त कार्यक्रम रहने वाला है जहां वो आज जम्मू-कश्मीर के लोगों को कई सौगात देने वाले हैं। 

आज एक तरफ वो कई विकास परियोजनाओं की शुरुआत करेंगे तो वहीं कई प्रोजेक्ट्स को आज वो जम्मू की जनता को सौंपेंगे भी। आज सबसे पहले गृहमंत्री अमित शाह जम्मू के जीडीए ग्राउंड भगवती नगर में विकास परियोजना का उद्घाटन करेंगे। इसके अलावा वह जम्मू में बने मल्टी डिसीपिल्नरी रिसर्च सेंटर देश को समर्पित करेंगे, साथ ही परिसर के सेगमेंट-सी की आधारशिला भी रखेंगे। अमित शाह आज जम्मू के पार्टी कार्यालय में बीजेपी कार्यकर्ताओं से मिलेंगे और भगवती नगर में एक जनसभा को भी संबोधित कर सकते हैं। केंद्र के आउटरीच कार्यक्रम के तहत वह कई प्रतिनिधिमंडलों से भी मिल सकते हैं। इन सब कार्यक्रमों के बाद अमित शाह श्रीनगर लौटेंगे और पुलवामा के सीआरपीएफ ग्रुप सेंटर जाएंगे। 

इससे पहले शुक्रवार को अमित शाह जम्मू-कश्मीर पहुंचे तो पहली मुलाकात शहीद सीआईडी अफसर परवेज डार के परिवार वालों से की। परवेज डार की इसी साल जून में आतंकियों ने श्रीनगर के नौगाम इलाके में मस्जिद से नमाज पढ़कर लौटते समय हत्या कर दी थी। अमित शाह ने परिवार से मिलने के बाद शहीद अफसर की पत्नी को सरकारी नौकरी का वादा किया। इसके बाद शाह ने घाटी में मौजूदा हालात को समझने के लिए यूनिफाइड कमांड की मीटिंग की जिसमें आर्मी, IB, CRPF, BSF, जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी समेत एलजी मनोज सिन्हा भी शामिल हुए, इसके बाद जम्मू कश्मीर यूथ क्लब में नौजवानों से बाचतीच की। इस कार्यक्रम में उन्होंने युवाओं को बताया कि सरकार आती जाती रहेगी लेकिन अगर लोगों को अपना भविष्य सुरक्षित करना है तो समाज को एकजूट करना होगा।