कुदरत का कहर…

केरल में बाढ़ से अब तक 41 की मौत

उत्तर से दक्षिण तक मौसम का कहर देखने को मिल रहा है। उत्तराखंड में आज लगतार तीसरे दिन भारी बारिश का अलर्ट है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में भी अगले 24 घंटे में बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। तो वहीं केरल में आज बांधा खोले जाने से नदियों का जल स्तर बढ़ सकता है। केरल के दस बांधों को लेकर रेड अलर्ट जारी किया गया है। दुखद खबर यह है कि केरल में बाढ़ और बारिश से मरने वालों की संख्या 38 हो गई है। दक्षिण ही नहीं उत्तर में भी कुदरत ने तबाही मचा दी है। उत्तराखंड में भारी बारिश से जन जीवन अस्तव्यस्त हो गया है। उत्तराखंड में अगले 48 घंटों में भारी बारिश का अलर्ट है, ऐसे में हालात पहले से और खराब हो सकते हैं। पिछले 24 घंटे में डेढ़ सौ मिलीमीटर से भी  ज्यादा मूसलाधार बारिश ने नैनीताल की खूबसूरती को जैसे पानी में समा लिया है। 

नैनीझील का पानी पहली बार नयना देवी मंदिर के अंदर तक पहुंच गया है। झील के पानी यहां से पैदल आने जाने वालों को भी  परेशानी हो रही है। मूसलाधार बारिश की वजह से नैनीताल में जबर्दस्त लैंडस्लाइड भी शुरू हो गया है। पूरे राज्य के हालात पर नजर रखने के लिए देहरादून में कंट्रोल रूम बनाया गया है। सीएम पुष्कर धामी भी कंट्रोल रूम के जरिए राहत और बचाव  के काम का जायजा ले रहे हैं। उत्तराखंड के हालात को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से फोन पर बात की और केंद्र सरकार से हर संभव मदद का आश्वासन दिया। उत्तराखंड में लगातार हो रही भारी बारिश की वजह से चारधाम यात्रा को रोक दिया गया है। केरल में लगातार हो रही बारिश के चलते राज्य सरकार ने 11 बांधों को लेकर रेड अलर्ट जारी किया है। 

इसलिए निचले इलाकों में लोगों से सतर्क रहने की अपील की जा रही है। एशिया के सबसे ऊंचे आर्क डैम में शामिल इडुक्की बांध के दरवाजे भी आज खोल दिये जाएंगे। 2018 में जब इडुक्की बांध के दरवाजे खुले थे तब पेरियार नदी के आस-पास बसे इलाकों में भारी तबाही आई थी और फिर से वैसी ही तबाही आने की आशंका है। मौसम विभाग के मुताबिक केरल में बुधवार से बरसात और भी रफ्तार पकड़ेगी, जो 24 अक्टूबर तक चलेगी। इसलिए राज्य सरकार अभी से ही बड़े डैम्स को खाली करने में जुट गई है। चलाकुडी नदी पर शोलयार बांध के दरवाजे खोल दिए गये हैं। कक्की नदी पर कक्की बांध के दरवाजे भी राज्य सरकार ने खोल दिये हैं। 

एर्णाकुलम में इडामलयार और पतनमतिट्टा में पम्पा बांध के फाटक आज खोले जाएंगे। मटुपट्टी, मूझियार, कुंडला और पीची बांध के लिए भी रेड अलर्ट जारी किया गया है। इसके अलावा आठ बांधों के लिए ‘ऑरेंज अलर्ट’ भी जारी किया गया है। केरल सरकार ने सबरीमला स्थित भगवान अयप्पा मंदिर की तीर्थयात्रा भी फिलहाल रोक दी है। आरणमुला, किदंगन्नूर और ओमल्लूर के तटीय इलाकों में भी अलर्ट जारी किया गया है। प्रदेश में राहत आपदा केंद्रों की संख्या 247 तक बढ़ाई गई है, इन कैंप्स में 2619 परिवार रह रहे हैं। रेस्क्यू ऑपरेशन में NDRF की 11 टीमों को लगाया गया है। इस पूरे हफ्ते केरल को कुदरत की अग्निपरीक्षा से गुजरना है। खासतौर पर दक्षिण और मध्य केरल के जिलों को। क्योंकि इन्हीं इलाकों में बाढ़ का खतरा ज्यादा है।