ग्वालियर-चम्बल जोन के अपराधों और कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक…

अपराध रोकने के लिये अपराधियों से सख्ती से निपटा जाए : डीजीपी

ग्वालियर। पुलिस कंट्रोल रूम ग्वालियर में प्रदेश के पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी ने ग्वालियर-चम्बल जोन के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की कानून व्यवस्था एवं अपराध समीक्षा संबंधी बैठक ली। इस बैठक में ग्वालियर जोन के पुलिस महानिरीक्षक अविनाश शर्मा एवं चम्बल जोन के प्रभारी पुलिस महानिरीक्षक सचिन अतुलकर तथा ग्वालियर-चम्बल जोन के जिलों के पुलिस अधीक्षकगण एवं कमाडेंट उपस्थित रहे। पुलिस महानिदेशक द्वारा बैठक के प्रारम्भ में उपस्थित पुलिस अधिकारियों से उनका परिचय प्राप्त किया तद्उपरान्त इस दौरान सुरक्षा व्यवस्था माक़ूल रखने सम्बंधी विषयों पर भी विस्तार से चर्चा हुई। बैठक में सर्वप्रथम पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर जोन द्वारा पाॅवर प्वाइंट प्रजेन्टेशन के माध्यम से जोन के समस्त जिलों के अपराधों के संबंध में पुलिस महानिदेशक को विस्तृत जानकारी दी गई। 

पुलिस महानिदेशक द्वारा अपराधों की जिलेवार समीक्षा करते हुए लंबित अपराधों के त्वरित निकाल कराने के निर्देश सभी संबंधित पुलिस अधीक्षकों को दिये। डीजीपी द्वारा पुलिस आवासों के संबंध में भी समस्त जिलों के एसपी से चर्चा की गई। उनके द्वारा लंबित विभागीय जांच तथा अनुकंपा नियुक्ति के प्रकरणों का शीघ्रता से निराकरण करने के निर्देश भी समस्त जिले के पुलिस अधीक्षकों को दिये। पुलिस महानिदेशक ने बैठक के दौरान कहा कि महिला तथा एससी/एसटी के लंबित प्रकरणों की विवेचना समय-सीमा में पूर्ण की जावे, जिससे पीड़ित को समय पर न्याय मिल सके। इस अवसर पर उन्होने कहा कि थानों में आने वाले पीड़ित की सहानुभूति के साथ सुनाई की जावे तथा एफआईआर दर्ज करने के बाद विवेचना शीघ्रता से कर प्रकरण का निकाल किया जाये। उन्होने दो पहिया वाहन चोरी की घटनाओं पर लगाम लगाने के लिये प्रभावी कार्य योजना तैयार करने के निर्देश समस्त जिलों के एसपी को दिये। 

पुलिस महानिदेशक द्वारा ग्वालियर जोन में एससी/एसटी के राहत प्रकरण के अच्छे निकाल तथा गुम बालक/बालिकाओं के पतारसी के लिये समस्त पुलिस अधीक्षकों की सराहना करते हुए कहा कि यह पीड़ित के लिये एक अच्छा कार्य है। ग्वालियर जिला ई-एफआईआर करने में प्रदेश में प्रथम स्थान पर है इसके लिये पुलिस अधीक्षक ग्वालियर को पुलिस महानिदेशक द्वारा बधाई दी गई। ग्वालियर पुलिस द्वारा प्रारंभ किये गये ‘‘सषस्त्र बल हेल्प डेस्क’’ तथा ‘‘माय ट्रेफिक माय सेफ्टी’’ एप की भी सराहना की। अज्ञात हत्या के प्रकरणों की पतासाजी के लिये भी पुलिस महानिदेशक द्वारा ग्वालियर पुलिस की सराहना की गई। उपस्थित सभी पुलिस अधिकारियों को शेष लंबित अपराधों के निकाल व वारंट तामीली के लिये अधिक से अधिक प्रयास करने के निर्देश भी दिये। बैठक में पुलिस महानिदेशक ने उपस्थित ग्वालियर-चम्बल जोन के समस्त पुलिस अधीक्षकों को अवैध गतिविधियों व माफियाओं पर लगाम लगाने हेतु प्रभावी कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया। 

ग्वालियर जोन के प्रजेन्टेशन के उपरान्त प्रभारी पुलिस महानिरीक्षक चम्बल जोन सचिन अतुलकर द्वारा चम्बल जोन के अपराधों की जानकारी का प्रजेंटेशन पुलिस महानिदेशक के समक्ष प्रस्तुत किया। इस अवसर पर प्रभारी पुलिस महानिरीक्षक चम्बल जोन द्वारा अपने अधीनस्थ जिलों में लागू किये गये बीट सिस्टम के संबंध में उपस्थित अधिकारिगणों को जानकारी दी। बैठक में पुलिस महानिदेशक द्वारा चम्बल जोन के जिलों के पुलिस अधीक्षकों से जिलेवार अपराधों की समीक्षा की तथा उन्हें लंबित अपराधों के त्वरित निकाल के निर्देश दिये। बैठक के अंत में पुलिस महानिदेशक द्वारा उपस्थित ग्वालियर-चम्बल जोन के जिलों के पुलिस अधीक्षकों से कहा कि अपराध रोकने के लिये अपराधियों से सख्ती से निपटा जाए तथा मादक पदार्थ की तस्करी एवं अवैध हथियारों के मामले से जुड़े अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाए।