पैदल रैली निकालकर दिया धरना…

मेरे भरण पोषण के लिए रोज 50 रुपए दे शिवराज सरकार : मिर्ची बाबा

ग्वालियर में गायों को लेकर मिर्ची बाबा ने हल्ला बोल प्रदर्शन किया है। उन्होंने गोला का मंदिर से फूलबाग तक पैदल रैली निकालकर सरकार को जगाने का प्रयास किया। फूलबाग पर धरना प्रदर्शन करने के साथ-साथ प्रधानमंत्री को खून से चेतावनी भरा पत्र भी लिखा है। पत्र में लिखा है कि गाय को राष्ट्रीय गौमाता घोषित किया जाए। साथ ही नारेबारी भी की। इतना ही नहीं मिर्ची बाबा ने चेतावनी दी है कि उनकी मांगों पर जल्द सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया तो वह पैदल भोपाल और दिल्ली तक जाएंगे और गौमाता को उनका अधिकार दिलाकर ही रहेंगे। ग्वालियर में मंगलवार को स्वामी वैराग्यानंद उर्फ मिर्ची बाबा ने गोला का मंदिर स्थित गौशाला से तमाम गाय भक्तों के साथ पदयात्रा शुरू की। 

पदयात्रा में गौभक्त हाथों में तख्तियां लेकर चल रहे थे। इन तख्तियां पर लिखा था की भूखी गाय करे पुकार मेरे भरण पोषण के लिए 50 रुपए रोज दे शिवराज सरकार। गौमाता को राष्ट्रीय गौमाता घोषित करें। ( केंद्र सरकार ) इस दौरान गौभक्त गाय की दुर्दशा को सुधारने के लिए जोरदार नारेबाज़ी कर रहे थे। शहर के विभिन्न मार्गों से होती हुई यह पदयात्रा फूलबाग चौराहे पर पहुंची, जहां मिर्ची बाबा और अन्य गौभक्तों ने पहले अपना खून निकलवाया और उसके बाद खून से प्रधानमंत्री को संबोधित करते हुए पत्र लिखा। इसके बाद खून से लिखा गया पत्र प्रधानमंत्री के नाम दो सूत्रीय मांग पत्र मिर्ची बाबा ने तहसीलदार को सौंपा। 

पत्र के माध्यम से मांग की गई है कि गाय को राष्ट्रीय गौमाता घोषित किया जाए और हर रोज गाय को भरण पोषण के लिए 50 रुपए दिए जाएं। स्वामी वैराग्यानंद उर्फ मिर्ची बाबा ने आंदोलन के माध्यम से चेतावनी दी है कि यदि सरकार ने उनकी मांगें नहीं मानी तो प्रदेश की राजधानी भोपाल और देश की राजधानी दिल्ली तक गौभक्त पदयात्रा करेंगे। वहीं मिर्ची बाबा की पदयात्रा को लेकर बड़ी संख्या में जिला एवं पुलिस प्रशासन के आला अधिकारी मय बल के साथ मौजूद थे। बाबा ने यह भी कहा कि उनको कई संतों का समर्थन हैं। उन पर लगातार हमले हो रहे हैं, लेकिन वह डरने वाले नहीं हैं।