आवासहीनों को आवास उपलब्ध कराना सरकार की प्राथमिकता…

सबका हो घर अपना, पूरा हो पक्के घर का सपना : ऊर्जा मंत्री

ग्वालियर। प्रदेश सरकार द्वारा आज प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों को प्रथम एवं तीसरी किस्त का आवंटन सिंगल क्लिक द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खंडवा से किया तथा प्रदेश के सभी हितग्राहियों को संबोधित कर विभिन्न स्थानों के कुछ हितग्राहियों से संवाद भी किया। ग्वालियर में सिटी सेंटर स्थित बाल भवन में आयोजित मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लाइव कार्यक्रम का सीधा प्रसारण किया गया। 

इस अवसर पर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाहा एवं भाजपा के जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी व अशोक शर्मा सहित अन्य जनप्रतिनिधिगणों ने कार्यक्रम में उपस्थित होकर हितग्राहियों को हितलाभ का वितरण किया। 

ग्वालियर नगर निगम द्वारा 295 हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के वीएलसी घटक योजना अंतर्गत तीसरी किस्त 50 हजार हितग्राहियों के खातों में डाली गई। जिसमें कुल 1 करोड 47 लाख 50 हजार रुपए हितग्राहियों के खातों में डाली गई। इसके साथ ही 111 हितग्राहियों को प्रथम किस्त 1 लाख रुपए की डाली गई। जिसमें 1 करोड़ 11 लाख रुपए हितग्राहियों के खातों में डाले गए। 

कार्यक्रम के दौरान प्रतीकात्मक रूप से चयनित हितग्राहियों को स्वीकृति पत्र प्रदान किए गए एवं 20 हितग्राहियों के भूमि पूजन कराए गए। इस अवसर पर प्रदेश सरकार के ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंशा अनुसार प्रदेश सरकार द्वारा सभी का अपना पक्का घर हो, इसी को लेकर निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं तथा इसी क्रम में आज यह कार्यक्रम प्रदेश स्तर पर आयोजित किया गया है।

सभी हितग्राहियों को बहुत-बहुत बधाई जिन्हें तीसरी किस्त मिली है उन्हें गृह प्रवेश की एवं जिन्हें प्रथम किस्त मिली है उन्हें भूमि पूजन की बधाई। इस अवसर पर प्रदेश के उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाहा ने कहा कि प्रदेश के सभी आवास हीन हितग्राहियों को अपना मकान मिले इसके लिए प्रदेश सरकार द्वारा लगातार प्रयास किए जा रहे हैं तथा कोविड-19 के संकट के दौरान भी प्रदेश सरकार ने इस कार्य को नहीं रोका है सरकार का उद्देश्य है कि जल्दी से जल्दी हितग्राहियों को अपना मकान मिले।