मच्छर जनित बीमारियों की रोकथाम एवं उपचार हेतु…

विश्व मच्छर दिवस के अवसर पर CMHO ने हरी झण्डी दिखाकर रथ को किया  रवाना 

मुरैना। विश्व मच्छर दिवस की शुरूआत 20 अगस्त 1897वें में हुयी थी। उसी दिन डॉ. रोनाल्ड रौस ने इसकी खोज की थी कि मलेरिया के संवाहक मादा एनीफिलीज मच्छर होते है, बाद में उनके प्रयास से मच्छर जनित बीमारियों की रोकथाम एवं उपचार के लिये दुनिया भर में अभियान चले और मलेरिया से हजारों लोगों की जान बचाई जा सके। इसके तहत मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एडी शर्मा ने लोगों को जागरूक करने के लिये गली, मोहल्लों में रथ पहुंचकर लोगों को मलेरिया से बचने के लिये संदेश दे। 

उस रथ को शुक्रवार को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। बताया गया है कि रथ में एनाउमेन्ट से डॉ. एडी शर्मा ने लोगों से अपील की है कि घरों में कूलर, गमले, टायर, ट्यूब, पुराने मटके, टंकि आदि में पानी जमा न होने दें, उसे साफ करते रहें। मच्छरों की संख्या में वृद्धि नहीं होगी। नीम की पत्ति का धूंआ करें, प्रचार रथ में मलेरिया अधिकारी डॉ. हरिओम शर्मा, टीकाकरण अधिकारी डॉ. अजय गोयल आदि उपस्थित थे।