विश्व नर्स दिवस पर नर्सों का आंदोलन...

JAH में नर्सों ने अपने हक के लिए दिया सांकेतिक धरना

बुधवार को विश्व नर्स दिवस के अवसर पर नर्सों ने JAH में हॉस्टल के बाहर एक दिन का सांकेतिक धरना दिया है। नर्स संगठन के सदस्यों ने सांकेतिक धरना वर्षों से जारी समयमान वेतन व भर्ती की मांग को लेकर दिया है। सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक उनका धरना चला। इस दौरान अस्पताल के इमरजेंसी विभागों में लगी नर्सें लगातार काम करती रहीं। समस्याओं को लेकर नर्सों द्वारा दिए जा रहे धरने में पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल ने धरना स्थल पर पहुंचकर कहा कि आपकी हर समस्या का निराकरण होगा लेकिन राष्ट्रीय आपदा में अपने दायित्वों को भी नहीं भूलना है इस अवसर पर उनके साथ सावरकर मण्डल अध्यक्ष जयंत शर्मा एवं उपाध्यक्ष विनोद गर्ग मौजूद रहे। 

इसके बाद यहां से सभी नर्स कलेक्टोरेट पहुंची। यहां CM शिवराज सिंह ने उनके साथ वर्चुअल मुलाकात की। CM ने कहा कि आप जो काम करते हो वह महान है। आपकी सभी मांग पूरी करने का आश्वासन देता हूं। बुधवार को विश्व नर्सिंग दिवस पर अस्पताल की नर्सों ने अपनी विभिन्न समस्याओं व मांगों को लेकर धरना शुरू कर दिया। हालांकि उनका यह धरना सांकेतिक था और इससे किसी को कोई परेशानी नहीं हुई। नर्सें अपने हाथों में विभिन्न नारों की तख्तियां व बैनर लेकर धरने पर बैठीं रहीं। 

नर्सों का कहना था कि सरकार अब नर्सों की भर्ती संविदा आधार पर कर रही है। सरकार को सभी नर्सों को नियमवत कर उनका वेतन नियमित नर्सों के मुताबिक करना चाहिए। साथ ही ड्यूटी के दौरान नर्सिंग स्टाफ ही हमेशा मरीजों के परिजन के गुस्से का शिकार होता है, इसलिए उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई जानी चाहिए। जिससे वह निर्भीक होकर अपना काम कर सकें। धरना दे रहीं नर्सिंग एसोसिएशन की सदस्यों का कहना था कि प्रदेश सरकार ने पिछले वर्षों में जो घोषणाएं की थी, उन्हें भी अभी तक पूरा नहीं किया है। जबकि नर्स कोरोना महामारी के बीच अपनी जान को जोखिम में डालकर अपने कर्तव्य का पालन कर रही हैं। यदि मांगे नहीं मानी गईं तो आंदोलन पर विवश होना पड़ेगा।