जल्द ही शहरवासियो को मिलेगी अत्याधुनिक अंतरराज्यीय बस टर्मिनल की सुविधा…

स्मार्ट सिटी की महत्वपुर्ण परियोजना ISBT के लिये चिन्हित जमीन को मिली स्वीकृति

ग्वालियर। अब जल्द ही ग्वालियर में स्मार्ट सिटी के तहत बनाये जाने वाले अंतरराज्यीय बस टर्मिनल का लाभ शहरवासियो को मिल सकेगा क्योकि इस परियोजना के लिये चिन्हित जगह को शासन-प्रशासन स्तर पर स्वीकृति मिल चुकी है। ग्वालियर के हजीरा थाना के पास करीब 35 एकड जमीन के आवंटन होने के बाद ग्वालियर स्मार्ट सिटी कॉर्पोरेशन द्वारा निविदाये जारी करके अंतरराज्यीय बस टर्मिनल का निर्माण किया जायेगा। स्मार्ट सिटी सीईओ श्रीमती जयति सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि स्मार्ट सिटी के तहत बनाये जा रहे आईएसबीटी परियोजना को लेकर चिन्हित जगह की स्वीकृति मिलने के बाद इस परियोजना को क्रियान्वित करना आसान हो गया है और अब जल्द से जल्द इसकी निविदा प्रक्रिया करके इसके निर्माण कार्य को शुरु किया जा सकेगा। 

श्रीमती सिंह ने बताया कि स्मार्ट सिटी मिशन के ट्रांजिट ओरियंटेड डेवलपमेंट के अंतर्गत ग्वालियर स्मार्ट सिटी की यह एक महत्वपूर्ण परियोजना है जिसका लाभ शहरवासियो को मिलेगा। आइएसबीटी का स्वरुप हेरिटेज थीम पर आधारित होगा तथा इसका निर्माण ग्रीन बिल्डिंग काँन्सेप्ट के तहत किया जायेगा। उर्जा बचत, जल संरक्षण, प्राकृतिक प्रकाश जैसे ग्रीन घटक इसके निर्माण में अहम भूमिका निभायेगे। श्रीमती सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि स्मार्ट सिटी कार्पोरेशन द्वारा बनाए जाने वाले बस टर्मिनल में 52 प्लेटफार्म बनाए जाएंगे। इससे पांच से 10 मिनट के अंतराल में एक साथ 52 बसें अपने गंतव्य की ओर रवाना हो सकेंगी। इस अंतरराज्यीय बस अड्डे का निर्माण दो चरणों में किया जाएगा। यहां 132 बसें खड़ी की जा सकेंगी। इनमें से 52 प्लेटफार्म और 80 बसें पार्किंग में खड़ी हो सकेंगी। ग्वालियर शहर में वर्तमान में तीन बस अड्डे हैं जो काफ़ी हद तक अव्यवस्थित हैं तथा उनमें यात्रियों के लिए सुविधाओं का आभाव है। 

इसी के दृष्टिगत ग्वालियर स्मार्ट सिटी द्वारा शहर में एक नए बस टर्मिनल की माँग को लेकर एक स्टडी की गई तथा पाया गया कि वर्तमान में मौजूद बस टर्मिनल में सार्वजनिक शौचालय, दिव्यांग जनों की सुगमता, बस ड्राइवर के लिए विश्राम कक्ष, वर्कशॉप आदि मूलभूत सुविधाओं की कमी है। ग्वालियर स्मार्ट सिटी द्वारा विकसित किए जाने वाले अंतर्राजीय बस टर्मिनल में जन सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा जाएगा। इस परियोजना में सार्वजनिक शौचालय, दिव्यंग्जनों की सुगमता के लिए बाधा रहित पथ, सुव्यवस्थित आगमन व प्रस्थान स्थल, बस चालकों के लिए डोर्मेटरी (विश्राम कक्ष), निजी वाहन, ऑटो, कैब व टैक्सी के लिए पिक एंड ड्रॉप लेन तथा पर्याप्त पार्किंग व्यवस्था, बसों के लिये निर्धारित वर्कशॉप एरिया का प्रावधान रहेगा।

नए बन टर्निमल में ये होगा खास -

  • 70 करोड़ की लागत से निर्मित होगा
  • 52 बसों के लिए बनाए गए हैं प्लेटफार्म
  • 13 इंटरसिटी बसें (शहर में चलेंगी)
  • 39 अंतरराज्यीय बसं एक साथ प्लेटफार्म से रवाना हो सकेंगी
  • 60 बसों की वर्कशाप में पार्किंग
  • 80 चार पहिया वाहनों की पार्किंग
  • 160 दो पहिया वाहनों की पार्किंग
  • 40 आटो पार्किंग
  • 35 टैक्सी पार्किंग