खाद की कीमतों में वृद्धि को लेकर कांग्रेस का हमला

संकट काल में भी आपदा को अवसर में बदलना BJP को अच्छे से आता है : श्री तोमर



 ग्वालियर। केंद्र सरकार द्वारा खाद के मूल्यों में बेतहाशा वृद्घि करने की कड़ी निंदा करते हुए कांग्रेस कमेटी के प्रदेश महामंत्री यदुनाथ सिंह तोमर ने प्रदेश और केंद्र सरकार पर हमला बोला है। केंद्र सरकार द्वारा खाद के मूल्यों में बेतहाशा वृद्घि करने की कड़ी निंदा करते हुए जिला कांग्रेस कमेटी के प्रदेश महामंत्री किसान नेता  यदुनाथ सिंह तोमर ने कहा कि केंद्र सरकार किसान विरोधी सरकार है। संकट काल में भी आपदा को अवसर में बदलना भाजपा सरकार को अच्छी तरह से आता है। 

किसानी का दिन शुरू होने वाला है और ऐसे समय में खाद के दामों में 650 रुपये की वृद्घि करना किसानों के साथ धोखा है। 2020-21में खाद के दामों में वृद्घि इस तरीके से हुई है। डीएपी 1200 से 1850, पोटाश 875 से 1000, सुपर फास्फेट 375 से 406 की वृद्घि कर दी गई है। डीएपी खाद के दाम में 650 रुपये प्रति बोरा वृद्घि करना भाजपा के किसान विरोधी चेहरे को दर्शाता है। श्री तोमर ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा रासायनिक खाद के मूल्य में की गई  वृद्घि के में  बीजेपी के सांसदों को विरोध पत्र भेजेंगे,जिसकी शुरुआत शुक्रवार से की जायेगी।उन्होंने  बताया कि हमारा प्रदेश  कृषि प्रधान राज्य है, राज्य के आधे से अधिक आवादी किसानी पर निर्भर है। 

एक तरफ कोरोना महामारी से राज्य के किसान आर्थिक रूप से जूझ रहे हैं, ऐसे समय में खाद के दामों में 400 से 800  रुपये तक की वृद्घि होने किसान हैरान हैं। श्री तोमर ने कहा कि सत्ता हासिल करने के लिए केंद्र की मोदी सरकार किसानों से लोकलुभावन वादे कर सरकार में आई और उसके बाद किसानों के साथ दोहरा चरित्र दिखाते हुए छल किया। देश मे पहली बार रासायनिक खादों के मूल्यों में 40 प्रतिशत से अधिक वृद्घि होने के करण किसान आज खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं।