प्रदेश में अब संक्रमण की स्थिति में हो रहा सुधार…

शुक्रवार को ग्वालियर में मिले 376 नए संक्रमित

ग्वालियर। शहर में कोरोना संक्रमण की स्थिति में सुधार हो रहा है। हर दिन के साथ संक्रमण की दर घटती जा रही है और रिकवरी रेट बढ़ती जा रही है। पर शहर के विपरीत गांव-देहात में हालात खराब होते जा रहे हैं। गांव में हो रहीं शादियां सुपर स्प्रेडर साबित हो रही हैं। यही कारण है कि ग्वालियर में शुक्रवार को 376 नए संक्रमित मिले हैं, जबकि 20 संक्रमित की मौत हुई है। ग्वालियर के आधा दर्जन गांव हॉट स्पॉट बने हुए हैं। यहां रास्ते सील कर दिए गए हैं। यही कारण है कि शुक्रवार को कलेक्टर ग्वालियर ने सभी पंचायत भवनों को आइसोलेशन सेंटर बनाने के निर्देश दिए हैं।

प्रदेश में अब धीरे-धीरे ही सही कोरोना संक्रमण की स्थिति में सुधार आने लगा है। कई ऐसे शहर हैं जहां रिकवरी रेट और पॉजिटिविटी रेट में काफी सुधार हुआ है। यही कारण है कि कुछ जगह अब बाजारों में कुछ राहत देने की बात भी होने लगी है। इसके चलते ग्वालियर में भी कोरोना संक्रमण में तेजी से सुधार हुआ है। 10 दिन पहले तक नए संक्रमित का आंकड़ा हर दिन 1100 से 1200 के पार जा रहा था। अब यही नए संक्रमित का आंकड़ा 400 संक्रमित के आसपास आने लगा है। शुक्रवार को भी 376 नए संक्रमित मिले हैं। साथ ही 20 संक्रमित की मौत भी हुई है, हालांकि प्रशासन ने सिर्फ 8 मौत की पुष्टि की है।

शुक्रवार को 3512 लोगों के सैंपल की रिपोर्ट आई है, इनमें से 376 नए संक्रमित निकले हैं। इसके बाद कुल संक्रमित का आंकड़ा 52727 हो गया है। शनिवार के लिए 3585 सैंपल भेजे गए हैं। 14 मई तक जिले में कुल एक्टिव कंटेनमेंट जोन की संख्या 107 रह गई है। अभी तक कुल सैंपलिंग 4 लाख 87 हजार 801 के पार हो गई है। शुक्रवार को 20 संक्रमित की मौत हुई है और इनका अंतिम संस्कार जिले के लक्ष्मीगंज मुक्तिधाम में कोविड गाइड लाइन से हुआ है। प्रशासन ने सिर्फ 8 मौत की पुष्टि की है। जिसके बाद कुल मौत का आंकड़ा 1043 पर पहुंच गया है। शुक्रवार को 1159 संक्रमित ठीक होकर डिस्चार्ज किए गए हैं।

गांव व देहात में लगातार कोविड संक्रमण फैल रहा है। इसकी सबसे बड़ी वजह यहां शादियों पर रोकथाम नहीं हो पा रही है। साथ ही लोग मास्क और सोशल डिस्टेंस को मजाक समझते हैं। ऐसे में लगातार कुछ गांव हॉट स्पॉट बन गए हैं। यही कारण है कि ग्वालियर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह सभी पंचायत भवनों को आइसोलेशन सेंटर व क्वारेंटाइन सेंटर बनाने के निर्देश जारी किए हैं। जिससे गांव में मिलने वाले संक्रमितों को यहां निगरानी में रखा जा सके।