उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला 2 मई को…

दमोह उपचुनाव में शाम 7 बजे थमी वोटिंग

दमोह। दमोह विधानसभा सीट पर शनिवार सुबह 7 बजे से शुरू हुआ मतदान शाम 7 बजे थम गया। इसी के साथ उम्मीदवारों की किस्तम का फैसला अब 2 मई को मतगणना के परिणाम आने के बाद होगा। यहां शाम 5 बजे तक 56.12 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया, 7 बजे तक के आंकड़े आना अभी बाकी है। कोरोना संक्रमण को लेकर मतदान केंद्रों पर खास इंतजाम किए गए थे। अंदर जाने से पहले मतदाता का तापमान जांचा गया, वोट देने के बाद हाथ साफ करने के लिए सैनिटाइजर और साबुन का इंतजाम किया गया था। दमोह उप चुनाव में दो महिलाओं सहित 22 प्रत्याशी मैदान में है, लेकिन मुख्य मुकाबला भाजपा प्रत्याशी राहुल सिंह लोधी और कांग्रेस के अजय टंडन के बीच है। 

राहुल लोधी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर जीते थे, लेकिन बाद में वे विधायक पद से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो गए। इस उपचुनाव में वे भाजपा के प्रत्याशी हैं। 2 मई को उपचुनाव के नतीजों से तय होगा कि मतदाताओं ने उनके भाजपा में जाने पर सहमति दी है या उनका फैसला नामंजूर कर दिया है। मतदान केंद्रो में प्रवेश से पहले मतदाता के तापमान की जांच गई। मतदान के लिए मास्क अनिवार्य किया गया, सभी मतदाता कोविड नियमों का पालन करते हुए मास्क पहनकर मतदान केंद्रों में पहुंचे। सभी मतदान केंद्रों पर हाथ साफ करने के लिए साबुन और सैनिटाइजर की व्यवस्था भी की गई। दमोह विधानसभा क्षेत्र में दो लाख 39 हजार 808 मतदाता हैं। इनमें एक लाख 24 हजार 345 पुरुष एवं एक लाख 15 हजार 455 महिलाएं और आठ थर्ड जेंडर हैं। कुल मतदाताओं में 80 वर्ष से अधिक उम्र के दो हजार 647 और एक हजार 28 दिव्यांग मतदाता हैं। सर्विस मतदाताओं की संख्या 129 और पोस्टल बैलेट से मतदान करने वाले मतदाताओं की संख्या 437 है। 

उपचुनाव के लिए मतदान शाम 7 बजे तक का समय दिया गया था। इस दौरान कोविड-19 संबंधी गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित किया गया। कुल 359 मतदान केंद्रों पर वोट डाले गए उप निर्वाचन में एक-एक सामान्य एवं व्यय प्रेक्षक, 68 माइक्रो प्रेक्षक तैनात किए गए। एक हजार 448 पोलिंग कर्मचारी और 432 रिजर्व पोलिंग कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई। सुरक्षा के लिए सीएपीएफ की तीन और एसएएफ की दो कंपनियां तैनात की गई। इसके अलावा 859 डीपीएफ, 413 होम गार्ड और 359 एसपीओ तैनात किए गए। 219 स्थानों पर वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गई विधानसभा क्षेत्र से पांच हजार 163 हथियार जमा कराए गए।