दो अधिकारियों को कारण बताओं नोटिस जारी करने के निर्देश…

खरीदी कार्य में कोताही बर्दाश्त नहीं : श्री कार्तिकेयन 

मुरैना। प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश के साथ-साथ मुरैना जिले में भी सरसों गेंहू चना खरीदी का कार्य शीघ्र प्रारंभ किया जाना है। इसके लिये जिले में खरीदी केन्द्र एवं खरीदी केन्द्रों पर आवश्यक सुविधायें मुहैया कराने की जिम्मेदारी उपसंचालक कृषि और डीएमओ मार्फेट को सौंपी गई थीं, किंतु उक्त अधिकारियों ने कार्य में रूचि नहीं ली इसलिये  कलेक्टर बी कार्तिकेयन ने दोंनो अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये। कलेक्टर बी कार्तिकेयन ने खरीदी केन्द्र की समीक्षा की जिसमें जिले में 68 खरीदी केन्द्र बनाये गये हैं। इनमें 8 केन्द्र चना खरीदी के लिये भी शामिल हैं जिले में किसानों के सरसों खरीदी के लिये 33995 और चना के लिये 1083 पंजीयन किये गये हैं। कलेक्टर ने बताया कि सरसों के लिये 54056 हेक्टेयर जमीन एवं 1235 हेक्टेयर चना के लिये चिन्हित की गई थी। 

इन खरीदी केन्द्रों पर पर्याप्त सुविधायें तौल कांटे आदि की जानकारी उपसंचालक क्रषि पर न होने के आरोप में कलेक्टर ने उपसंचालक पीसी पटेल को कारण बाताओ नोटिस तथा एक वेतनवृद्धि रोकने का प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिये। इसके साथ ही कलेक्टर ने उपसंचालक पीसी पटेल को प्रत्येक दिन 6-6 सेंटरों का अवलोकन करने के निर्देश दिये। प्रति सेंटर पर एक घंटा रूककर व्यवस्थायें करने के भी निर्देश दिये उन्होंने कहा कि सभी खरीदी केन्द्रों पर आरईओ नियुक्त किये गये हैं। आरईओ सेंटर पर ही मिलेें। अक्समात मेरे द्वारा किसी भी खरीदी केन्द्र का निरीक्षण किया गया। उस दौरान आरईओ मौके पर नहीं मिला तो उसका वेतन काट दूंगा और उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही करूंगा। सेंटरों पर छाया पानी तौल कांटे, बारदाना, कम्प्यूटर आॅपरेटर, हंबाल सभी के पुख्ता इंतजाम कर दिये जायें। जिले के किसी भी खरीदी केन्द्र पर लाॅयन आॅर्डर की स्थिति उत्पन्न नहीं होनी चाहिये। कलेक्टर बी कार्तिकेयन ने बारदाने की समीक्षा की जिसमें जिले को 14 लाख बैग बारदाने की जरूरत है। 

जिसमें अभी मात्र 8 लाख 60 हजार बारदाना उपलब्ध है। कलेक्टर ने कहा कि अगर खरीदी 22 मार्च से की गई होती तो खरीदी केन्द्रों पर बारदाना भी अभी तक नहीं पहुंचाया गया। इस प्रकार की ट्रांसपोर्टेशन में लापरवाही ठीक नहीं है। डीएमओ एप्रेस प्रेमी को तत्काल प्रभाव से कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने पीडीएस पात्रता पर्ची कोविड एवं आयुष्मान कार्ड के संबंध में विस्तार से समीक्षा की। कलेक्टर ने प्रत्येक जनपद सीईओ को पिछली बैठक में इस प्रकार के निर्देश दिये थे कि जिले में 6 लाख लोगों के आयुष्मान कार्ड बनना शेष हैं जिसमें 31 मार्च तक कार्ड बनवाने पर हितग्राही से किसी भी प्रकार का चार्ज नहीं लिया जायेगा। इसके बावजूद भी आयुष्मान कार्ड बनवाने में तेजी नहीं आ रही थी। जब कलेक्टर ने जनपद सीईओ को निर्देश दिये तो समस्त सीईओ ने एक स्वर में जवाब दिया कि अधिकतर लोगों के आयुष्मान कार्ड बन चुके हैं अब हमारी जनपदों में लोग शेष नहीं हैं। 

कलेक्टर ने इस पर निर्देश दिये कि समस्त जनपद सीईओ 22 मार्च को होने वाली टीएल बैठक में इस प्रकार का प्रमाणपत्र दें कि हमारे यहां इतने लोगों के आयुष्मान कार्ड बनने थे, इतने के बन चुके हैं और इतने किन्ही कारणवश बनना संभव नहीं हैं। इस प्रकार का प्रमाणपत्र समस्त जनपद सीईओ को देना था किंतु समस्त जनपद सीईओ ने इसे गंभीरता से नहीं लिया और प्रमाण पत्र एक भी जनपद सीईओ ने नहीं दिया। इस पर कलेक्टर ने नाराजगी जाहिर करते हुये 23 मार्च को होने वाले रोको टोको अभियान में अपने अपने क्षेत्र के मुख्य चैराहे पर 2-2 हजार मास्क स्वयं के वेतन से खरीदकर लोगों को निशुल्क बंटवायेंगे। नगरीय निकायों के सीएमओ अपनी निकाय में 500-500 मास्क निशुल्क अपने वेतन से क्रय करके वितरण क्रय करायेंगे।