कृषि छात्रों का विरोध प्रदर्शन 38वें दिन भी जारी…

छात्रों ने प्रदर्शन कर CM शिवराज, कृषि मंत्री और सांसद सिंधिया को दी सांकेतिक फांसी

ग्वालियर। कृषि महाविद्यालय के छात्रों का विरोध प्रदर्शन 38वें दिन भी जारी रहा एग्रीकल्चर कॉलेज के गेट पर नाराज छात्रों ने सीएम शिवराज सिंह चौहान, कृषि मंत्री कमल पटेल और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को सांकेतिक फांसी दी। तीन छात्र इन नेताओं की फोटो लगाकर गेट के पास खड़े हुए थे। जिनके गले में रस्सी का फंदा लगाए कुर्सी पर एक लड़का खड़ा था। सीएम के पुतले को फांसी देने का कार्यक्रम को गृह विभाग ने पुलिस के पास पहले ही पहुंचा दिया था। इसलिए पुलिस बल 11:30 बजे से कॉलेज के गेट पर तैनात था।

छात्र गेट के बाहर आम रोड पर इन नेताओं को सांकेतिक रूप से फांसी देना चाहते थे लेकिन पुलिस ने उन्हें कॉलेज परिसर के अंदर जाने को कहा। छात्र कॉलेज के गेट पर अपना विरोध प्रदर्शन करने के लिए तैयार हो गए। नेताओं को फांसी देने के बाद छात्रों ने व्यापम घोटाले को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कृषि मंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। छात्रों का कहना है कि 'एसएडीओ आर ए ई ओ के लिए हुई लिखित परीक्षा में व्यापक पैमाने पर व्यापम ने गड़बड़ी की है। 

शिवराज सिंह चौहान व्यापम घोटाले के जनक के रूप में उभर रहे हैं इसलिए छात्रों कि वह सुनवाई नहीं कर रहे हैं. सिर्फ जांच का भरोसा ही उन्होंने दिया है। यह जांच कब तक पूरी होगी। इसके बारे में अभी नहीं बताया गया है। जबकि मेधावी छात्र नौकरी के लिए भटक रहे हैं। वह रिसर्च तक कर चुके हैं, उसके बावजूद उन्हें नौकरी नहीं मिल रही है। और फिसड्डी छात्र मेरिट में आ रहे हैं। ऐसे में छात्रों के पास अपना आक्रोश प्रदर्शन करने के अलावा और कोई रास्ता नहीं है।