ट्रांसमिशन लाइनों के मामले में बर्ड डायवर्टर लगाने…

ग्रेट इंडियन बस्टर्ड के लिए दिए जा सकता हैं कम वोल्टेज लाइनों को अंडरग्राउंड करने का आदेश

दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है सोन चिरैया (ग्रेट इंडियन बस्टर्ड )और खरमौर के संरक्षण के लिए सरकार को आदेश दिए जा सकते हैं कि राजस्थान और गुजरात में कम वोल्टेज वाली ट्रांसमिशन लाइनों को अंडर ग्राउंड तथा उच्च वोल्टेज वाली ट्रांसमिशन लाइनों के मामले में बर्ड डायवर्टर लगाने पर विचार किया जाना चाहिए। 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता द्वारा इन लुप्तप्रायः पक्षी के संरक्षण के लिए बर्ड डायवर्टर लगाने की मांग की है। न्यायालय ने कहा कि उच्च ट्रांसमिशन लाइनों के मामले में जिन्हें भूमिगत नहीं बनाया जा सकता है वहां बर्ड डायवर्टर लगाया जाना चाहिए भले ही उसकी लागत अधिक हो। न्यायालय में कहा गया कि यह मामला एक विलुप्त हो रहे पक्षी सोन चिरैया का है, यह पक्षी एक महत्वपूर्णपक्षी है। 

न्यायालय को क्षतिपूरक वनीकरण कोष अधिनियम की जानकारी देते हुए बताया गया कि यह कोष वन्यजीवन के संरक्षण और प्रबंधन के लिए है। इसलिए इसके लिए तत्काल फंड उपलब्ध कराया जाना चाहिए। यह याचिका इन पक्षियों की घटती आबादी को देखते हुए इनके संरक्षण की मांग को लेकर प्रस्तुत की गई है।