नरसी भगत की तर्ज पर…

बिन पिता की बेटी के ब्याह में ‘किन्नरों’ ने दिया भात

मुरैना। नरसी का भात तो आपने सुना होगा, जिसमें अपने भक्त की बेटी की ससुराल में खुद भगवान श्रीकृष्ण भाई बनकर भात चढ़ाने के लिए पहुंचे थे। कुछ इसी तरह अंबाह कस्बे में एक बिन बाप की बेटी की शादी में जब रस्में निभाने के लिए कोई नहीं था तो “किन्नर’ बिरादरी आगे आई। एक बूढ़ी मा की आंखें उस वक्त खुशी से भर आईं जब कस्बे में रहने वाली राबिया किन्नर अपने सहयोगियों के साथ भात सहित अन्य रस्मों को पूरा कर ने के लिए बैड-बाजे के साथ उसके दरवाजे पर पहुंची। 

दरअसल कस्बे की प्रताप कॉलोनी में रहने वाले डोंगर सिंह जाटव का कुछ समय पहले निधन हो गया। डोंगर सिंह की बूढ़ी पत्नी चरण देवी की बेटी पूनम शादी लायक थी और छोटा बेटा दिव्यांग। बेटी की शादी तो चरणदेवी ने किसी तरह रिश्तेदारों की मदद से भिंड में तय कर दी। लेकिन शादी सहित अन्य रस्में निभाने के लिए उसके पास मुट्ठी भर रुपए थे।

इसी दौरान मोहल्ले में बधाई मांगने पहुंची राबिया किन्नर को चरणदेवी की व्यथा लोगों ने सुनाई तो उसका दिल पसीज गया। राबिया किन्नर को जब पता चला कि पूनम की 14 मार्च को शादी है और उसके घर में भात सहित अन्य रस्में निभाने के लिए कोई नहीं है तो वह अपने सहयोगियो के साथ भात की रस्म अदायगी के लिए हजारों रुपए का सामान लेकर पहुंची और विधि-विधान के साथ एक भाई व मामा की तरह भात पहनया।