महिला जन-सुनवाई ने दु:खी महिलाओं के पोंछे आँसू…

महिला दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित विशेष जन-सुनवाई में पहुँचीं 79 महिलायें

ग्वालियर। कीर्ति को केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल में नौकरी ज्वॉइन करने के लिये चरित्र प्रमाण-पत्र की जरूरत थी। तृप्ति को चिंता थी कि अगर कल तक बच्ची की फीस जमा नहीं हुई तो वह परीक्षा में नहीं बैठ पायेगी। दिव्यांग चन्द्रावती नौकरी व स्व-रोजगार की आस में दफ्तरों के चक्कर लगा रही थीं तो रिंकी अपने इलाज को लेकर और खाद्यान्न पर्ची न मिलने से दुखी थीं। कलावती की परेशानी थी कि उनके खाते से किसी ने छलपूर्वक उनकी जमा पूँजी निकाल ली थी। इन सभी महिलाओं की समस्याओं का समाधान महिलाओं के लिये हुई विशेष जन-सुनवाई में हो गया। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह की पहल पर अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में मंगलवार को कलेक्ट्रेट में महिलाओं के लिये विशेष जन-सुनवाई का आयोजन किया गया। जन-सुनवाई में पहुँचीं सभी महिलाओं को सम्मानपूर्वक कुर्सियों पर बिठाया गया। साथ ही चाय-पानी से आव-भगत भी की गई। परपट की पहाड़िया वीरपुर निवासी कु. कीर्ति कुशवाह ने महिलाओं की जन-सुनवाई में पहुँचकर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह से आग्रह किया कि सर मेरा चयन केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल में हो गया है। मुझे दो दिन बाद अपनी नौकरी ज्वॉइन करनी है। इसके लिये एसडीएम स्तर के अधिकारी के चरित्र सत्यापन प्रमाण-पत्र की जरूरत है पर तकनीकी कारणों से प्रमाण-पत्र बन नहीं पा रहा है। 

जन-सुनवाई में अपर जिला दण्डाधिकारी आशीष तिवारी ने हस्ताक्षर कर तत्काल कीर्ति का चरित्र प्रमाण-पत्र बना दिया। फिर क्या कीर्ति खुशी से फूली नहीं समाई। कलेक्टर श्री सिंह ने कीर्ति को प्रमाण-पत्र सौंपा और कार्यक्रम अधिकारी महिला-बाल विकास का मोबाइल फोन नम्बर देकर कहा कि और कोई मदद की जरूरत हो तो जरूर बताना। माधौगंज ग्वालियर से जन-सुनवाई में पहुँचीं तृप्ति गायकवाड़ ने कलेक्टर से दु:खी मन से गुहार लगाई कि मेरी बिटिया रामश्री किड्स स्कूल में पढ़ती है। पति का देहांत हो चुका है। आय का कोई जरिया नहीं है। इसलिये बच्ची की फीस नहीं भर पा रहे हैं। स्कूल प्रबंधन ने कहा है कि अगर कल तक फीस जमा नहीं हुई तो तुम्हारी बिटिया परीक्षा में नहीं बैठ पायेगी। कलेक्टर श्री सिंह ने तृप्ति के आवेदन पत्र का फोटो खींचकर तुरंत जिला शिक्षा अधिकारी को वॉट्सएप के जरिए भेजा और निर्देश दिए कि स्कूल प्रबंधन से अभी बात करें कि तृप्ति की बिटिया को अनिवार्यत: परीक्षा में बिठाएँ अन्यथा आपके खिलाफ पुलिस कार्रवाई की जायेगी। लगभग 15 मिनट के बाद जिला शिक्षा अधिकारी ने फोन के जरिए सूचना दी कि स्कूल प्रबंधन तृप्ति की बिटिया को परीक्षा में बैठने से नहीं रोकेगा और न ही फीस की मांग करेगा। ये सुनकर तृप्ति की आँखें छलक आईं। कलेक्टर ने कल्याणी योजना के तहत तृप्ति गायकवाड़ की पेंशन स्वीकृत करने के निर्देश भी संयुक्त संचालक सामाजिक न्याय को दिए हैं। 

शिवनगर घोसीपुरा से दिव्यांग महिला श्रीमती चन्द्रावती जन-सुनवाई में नौकरी अथवा स्वरोजगार के लिये आर्थिक सहायता की आस में पहुँचीं थीं। कलेक्टर श्री सिंह ने नगर निगम की योजना के तहत चन्द्रावती का स्वरोजगार प्रकरण एक हफ्ते के भीतर मंजूर करने के निर्देश दिए। साथ ही चन्द्रावती को भरोसा दिलाया कि निजी कंपनियों में नौकरी दिलाने के प्रयास भी किए जायेंगे। लाला का बाजार लश्कर निवासी श्रीमती रिंकी की खाद्यान्न पर्ची की समस्या का समाधान जनसुनवाई में हो गया। कलेक्टर ने उनके नि:शुल्क इलाज का इंतजाम भी करा दिया। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित हुई विशेष महिला जन-सुनवाई में कुल 79 महिलाओं के आवेदन प्राप्त हुए। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, अपर कलेक्टर आशीष तिवारी एवं कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास राजीव सिंह ने एक-एक कर सभी महिलाओं की समस्यायें सुनीं और उनके आवेदनों के निराकरण की रूपरेखा तय की। विशेष महिला जन-सुनवाई में प्राप्त हुए आवेदनों के निराकरण की मॉनीटरिंग कलेक्ट्रेट से विशेष तौर पर अलग से की जायेगी। घाटीगाँव विकासखंड के ग्राम पनिहार से महिला जन-सुनवाई में श्रीमती कलावती आदिवासी सहित गाँव की अन्य महिलायें पहुँचीं थीं। 

इन सभी महिलाओं का कहना था कि तीन अनजान लोगों ने अंगूठे लगवाकर उनके खातों में जमा 18 हजार रूपए की पूँजी निकाल ली है। इस प्रकरण को कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने गंभीरता से लिया है। उन्होंने घाटीगाँव के तहसीलदार अनिल राघव को निर्देश दिए कि इन महिलाओं को सरकारी वाहन से अपने साथ लेकर जाएँ। संबंधित बैंक और ग्राम पंचायत सचिव इत्यादि से जानकारी लेकर इन महिलाओं का पैसा वापस दिलाएँ। साथ ही दोषियों के खिलाफ पुलिस थाने में एफआईआर भी दर्ज कराई जाए। वहीं वार्ड 30 के विभिन्न क्षेत्रों के निवासियों द्वारा क्षेत्र में साफ सफाई के बाद भी कचरा फैलाने वालों के खिलाफ कार्यवाही करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही नागरिकों द्वारा स्वच्छता, अवैध निर्माण, पेयजल समस्या, आवास योजना में आवास दिलाने सहित अन्य समस्याओं को लेकर आवेदन दिए जिनके तत्काल निराकरण के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए गए। जनसुनवाई में लगभग 50 से अधिक आवेदन प्राप्त हुए। जनसुनवाई के दौरान उपायुक्त जगदीश अरोरा, नोडल अधिकारी एवं उपायुक्त डा अतिबल सिंह यादव सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।