6 को कारण बताओ नोटिस,3 अधिकारियों का वेतन काटने के निर्देश...

मुख्यमंत्री की VC में जिला बाॅटम फाइव में न रहे : श्री कार्तिकेयन

मुरैना। प्रदेश सरकार की योजनायें हम सबके लिये प्राथमिकता पर है, इसमें कई अधिकारियों को पिछले सोमवार को टीएल बैठक में मेरे द्वारा कुछ लक्ष्य निर्धारित किये गये थे, जिसका समय पर लक्ष्य पूर्ण न करने पर 6 अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस एवं 3 अधिकारियों का दो-दो दिवस का वेतन काटने के निर्देश दिये है। यह निर्देश कलेक्टर बी. कार्तिकेयन ने सोमवार को नवीन कलेक्ट्रेट के सभागार में चल रही टीएल बैठक में दिये। कलेक्टर बी. कार्तिकेयन सर्वप्रथम प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत समस्त नगरीय निकायों के सीएमओ से वर्चुअल मीटिंग ली, जिसमें बानमौर सीएमओ अशोक बंसल सीधे कलेक्टर से नहीं जुड़े। 

इस पर कलेक्टर ने कारण बताओ नोटिस एवं एक दिन का वेतन काटने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा है कि नगरीय निकायों के सीएमओ स्वयं बैंको में बैठकर स्वनिधि योजना के लक्ष्य को दो दिवस में पूर्ण करायें। जिसमें जौरा की प्रगति 35 प्रतिशत बहुत कम है। मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के प्रबंधक दिनेश कुमार तोमर को कलेक्टर श्री कार्तिकेयन ने कारण बताओ नोटिस तथा दो दिवस का वेतन काटने के निर्देश दिये है। कलेक्टर ने कहा कि पिछले सप्ताह कार्य में कोई प्रोग्रेस नहीं दिखाई, जबकि पहाडगढ़ सीईओ अवकाश पर है, वहां यूको बैंक में बैठकर लक्ष्य को पूर्ण करायें। पिछले सप्ताह 3 हजार 658 लक्ष्य हुआ था। इसके अगले सप्ताह एक हजार और बढ़ाना है। एलडीएम डीपीएम के साथ कैलारस  और पहाडगढ़ के क्षेत्र में बैंको में संपर्क करें। 

10 हजार 516 में से मात्र 4 हजार 426 का लक्ष्य अभी तक प्राप्त हुआ है। उन्होंने अधिकारियों से एसएसजी बैंक लिंकेज के लक्ष्य को पूर्ण करने के निर्देश दिये। कलेक्टर बी. कार्तिकेयन ने कहा है कि जिले में महिला बाल विकास एवं स्वास्थ्य विभाग के ऐसे कितने कर्मचारी है, जिन्होंने अभी कोविड का टीका नहीं लगवाया है। जिसमें गर्भवती महिलायें कितनी है, विभिन्न बीमारियों से ग्रसित लोग कितने है, ऐसे कितने लोग है जो बाहर चले गये है और ऐसे कितने लोग है जो कोविड का टीका नहीं लगबा रहे है। इसकी जानकारी महिला एवं बाल विकास विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि हाईरिस्क वाली कितनी महिलायें है और गर्भधारण करने के बाद प्रसव कितनी महिलाओं के हो रहे है, ऐसा तो नहीं कि भ्रू्रण परीक्षण कराने के बाद अवर्सन करा लिया जाता हो। 

इस कारण बेटियों की संख्या इस जिले में कम है। एसडीएम अपने-अपने क्षेत्र में सीडीपीओ और बीएमओ केे साथ बैठक करें। कलेक्टर ने कहा कि जिले में टीकाकरण का कार्य 79 प्रतिशत हुआ है, जबकि यह टीकाकरण 100 प्रतिशत होना चाहिये। अगली बार मुझे 90 प्रतिशत से कम नहीं मिलना चाहिये। कलेक्टर ने कहा कि आयुष्मान कार्ड का लक्ष्य बहुत है। जिले में 3 लाख 70 हजार 129 कार्ड बनें। इस पर मात्र 37 प्रतिशत प्रगति आई है। इससे यह प्रतीत होता है कि ब्लाॅकों पर आयुष्मान कार्ड बनाने में कोई रूचि नहीं ली जा रही है। इस पर डाॅ. आरसी बांदिल को कारण बताओ नोटिस और आयुष्मान कार्ड बनाने वाले काॅर्डिनेटर का एक सप्ताह का वेतन काटने के निर्देश दिये है।