21 फरवरी को आयोजित होगा ग्वालियर स्वच्छता दिवस...

शिक्षक स्वच्छता मिशन से अधिक बच्चों को जोडें : निगमायुक्त

ग्वालियर। स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 के तहत शहर के अधिक से अधिक नागरिकों को स्वच्छता मिशन के प्रति जागरुक करने के लिए सभी शिक्षक अपनी पढाई के साथ साथ अधिक से अधिक बच्चों को स्वच्छता मिशन से जोडे, जिससे स्वच्छ ग्वालियर व स्वस्थ्य ग्वालियर के प्रयास सफल हो सकें। क्योंकि बच्चों के आग्रह का सभी सम्मान करते हैं और जब बच्चे अपने अभिभावकों को समझाएंगे तो लोगों की आदत में परिवर्तन आएगा। उक्ताशय के विचार नगर निगम आयुक्त शिवम वर्मा ने स्वच्छता जागरुकता मिशन के तहत आयोजित निजी व शासकीय विद्यालयों के प्राचार्यों के कार्यक्रम में व्यक्त किए। कार्यक्रम का उददेश्य कक्षा 5वीं से कक्षा 8वीं तक के बच्चों को इस मिशन से जोडना है। 

बाल भवन के सभागार में आयोजित स्वच्छता जागरुकता मिशन कार्यक्रम के तहत निगमायुक्त श्री वर्मा ने सभी विद्यालयों के प्रार्चायों व शिक्षकों को संबोधित करते हुए बताया कि आज का समय बदल गया है तथा अधिकतर बच्चों की पढाई शिक्षकों द्वारा आॅनलाइन कराई जा रही है, जिससे बच्चे अपने घर पर ही रहकर पढाई भी कर रहे हैं इसके साथ ही उन्हें राष्ट्रहित के इस स्वच्छता मिशन में कक्षा 5वीं से कक्षा 8वीं तक के बच्चों को जोडें। कार्यक्रम के दौरान निगमायुक्त श्री वर्मा द्वारा बताया गया कि आगामी 21 फरवरी को ग्वालियर स्वच्छता दिवस आयोजित किया जा रहा है, जिसके लिए सभी प्रार्चायों व शिक्षकों के मोबाइल नम्बर पर एक लिंक भेजी गई। जिसके माध्यम से बच्चें इस फार्म पर अपने परिवार के साथ ही आस पास के कम से कम 10-10 घरों में स्वच्छता के बारे में बताकर उनकी जानकारी भरकर उपलब्ध कराएं। 

जिससे हम लगभग 1.5 लाख परिवारों तक स्वच्छता मिशन की जानकारी दे पाएंगे। निगमायुक्त श्री वर्मा ने कहा कि शिक्षक बच्चों को समझाएं कि कचरा 4 प्रकार का होता है जिसे हमें अलग-अलग रखना है। इसके साथ ही हमें सूखा व गीला कचरा घर से अलग अलग कर नगर निगम के कचरा संग्रहण वाहन में डालना चाहिए। इसके साथ ही कचरा सडक पर या अन्य कहीं नहीं फेंकना चाहिए। इसके साथ ही प्रत्येक घर व दुकान पर दो-दो डस्टबीन हों जिससे गीला व सूखा कचरा अलग अलग रखा जा सके। स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 के दौरान जब अधिकारी उनके यहां सर्वेक्षण के लिए आएं तो वह स्वच्छता की सभी जानकारियां एवं नगर निगम ग्वालियर द्वारा किए जा रहे प्रयासों की जानकारी उन्हें दें। इसके साथ ही सभी रहवासी आॅनलाइन फीडबैक भी स्वच्छता पोर्टल पर दे सकते हैं।