सभी 15 आरोपी गिरफतार...

जहरीली शराब के नेटवर्क का हुआ पर्दाफाश

मुरैना। ग्राम मानपुर छैरा में पिछले 11-12 जनवरी माह में जहरीली शराब से हुई 24 लोंगो की मृत्यु के प्रकरण में समस्त 15 आरोपियों को गिरफतार कर लिया गया है। अवैध शराब के नेटवर्क का भी पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पांडे ने पर्दाफाश कर दिया है। ज्ञातव्य रहे कि जहरीली शराब पीने से मानपुर छैरा महाराजपुर बागचीनी सहित आसपास के गांव के 24 लोगों की मृत्यु हो गई थी। इस घटना पर बागचीनी थाने में अपराध क्रमांक 12/21 द्वारा 304, 34 ताहि 34, 49 ए आबकारी एक्ट के तहत मामला पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया था। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने जहरीली शराब की दुर्घटना को अत्यंत दुखद दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुये चंबल-ग्वालियर संभाग के कमिश्नर आशीष सक्सेना को जांच दल बनाने के निर्देश दिये थे। मुख्यमंत्री ने इस घटना को गंभीरता से लेते हुये। उच्च स्तरीय बैठक में कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक का स्थानांतरण करने एसडीओपी और जिला आबकारी अधिकारी को निलंबित करने, बागचीनी के कुछ आरक्षकों को भी निलंबित करने का निर्णय लेते हुये गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव डाॅ. राजेश राजौरा की अध्यक्षता में उच्चस्तरीय जांच दल गठित किया गया। 

दल में सदस्य के रूप में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ए.साई मनोहर, उप पुलिस महानिरीक्षक ट्रेनिंग मिथलेश शुक्ला थे, जिन्होंने मुरैना में दो दिवसीय भ्रमण करके घटना के साक्ष्य जुटाये चंबल संभाग के कमिश्नर आशीष सक्सेना और पुलिस महानिरीक्षक मनोज शर्मा भी पूरी मुस्तैदी के साथ जांच दल के साथ सहयोग करते रहे। पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पांडे ने बुधवार को अपने कंट्रोल रूम में इस जहरीली शराब के नेटवर्क का पर्दाफाश करते हुये बताया कि इस विवेचन प्रकरण में 15 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अवैध जहरीली शराब के निर्माण, विक्रय व परिवहन के संबंध में बारीकी से पूछताछ करने पर आरोपियों द्वारा बताया गया कि वह पूर्व से ही शराब माफियाओं के साथ रहकर अवैध शराब क्रय विक्रय एवं परिवहन का कार्य करते रहे है, जिसमें अधिक मुनाफे को देखते हुये आरोपियों ने बताया कि वे स्वार्थवश शराब बनाने के लिये थिनर का उपयोग किया। थिनर के 5 ड्रम 30 हजार के आते है, जबकि ओपी का एक ड्रम 25 से 30 हजार का आता है। अपना धंधा चालू करने के लिये शराब माफियाओं से प्राप्त  जानकारी के अनुसार शराब बनाने के लिये केमिकल आगरा की रजिस्टर्ड केमिकल दुकान से 5 ड्रम केमिकल खरीदा जो केमिकल ठंडा पानी थिनर था। 

उक्त केमिकल खरीदते समय आरोपियों द्वारा पहचान के रूप में पहले अपना आधार कार्ड दिया, किंतु बाद में पहचान छुपाने के उद्धेश्य से अपने मित्र का आधार कार्ड केमिकल दुकान वाले को पहचान के रूप में दिया गया जिसकी रसीद उक्त दुकान मालिक से आरोपियों द्वारा प्राप्त की गई। केमिकल (थिनर) से अवैध शराब बनाने के लिये एक ड्रम केमिकल थिनर ग्राम छैरा, एक ड्रम ग्राम कांसपुरा एवं 3 ड्रम ग्राम दोनारी में आरोपियों द्वारा  बुलेरो एवं लोडिंग वाहन में भेजे गये। अवैध शराब के निर्माण हेतु प्रयुक्त बारदाना आरोपियों द्वारा अवैध शराब करोबार में पूर्व में संलिप्त शराब माफिया के माध्यम से ग्वालियर के पौआ माता मंदिर से पैंकिंग का सामान तथा लेबलिंग का सामान शिवहरे प्रिंटिंग प्रेस से प्राप्त किया। इसके बाद आरोपीगण द्वारा ग्राम छैरा में प्रकरण के मुख्य आरोपी के घर पर एक ड्रम थिनर केमिकल से अवैध शराब जहरीली का निर्माण कर ग्राम छैरा, मानपुर व आसपास के ग्रामों में सप्लाई की गई। जहरीली शराब के सेवन से 11 जनवरी 2021 की दरमियानी रात को जहरीली शराब का सेवन करने वाले व्यक्तियों का स्वास्थ्य खराब होकर मृत्य होना आरंभ हो गई।