जिला पंचायत के सीईओ ने बैठक में दिए निर्देश...

हर जनपद पंचायत में कम से कम एक जल संरचना का निर्माण कराएँ : श्री कान्याल

ग्वालियर। जिले की हर जनपद पंचायत में कम से कम एक बड़ी जल संरचना का निर्माण कराएँ। साथ ही गाँव-गाँव में बड़े पैमाने पर खेत तालाब व मेढ़ बंधान बनाने के लिये स्थल चयन भी जल्द से जल्द करें, जिससे बरसात से पूर्व ये जल संरचनायें बनवाई जा सकें। इस आशय के निर्देश जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी किशोर कान्याल ने संबंधित अधिकारियों की बैठक में दिए। उन्होंने ग्रीष्म ऋतु के दौरान जिले के ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल की पुख्ता व्यवस्था करने के निर्देश भी दिए। 

जिला पंचायत के सभागार में आयोजित हुई बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री कान्याल ने कहा कि गाँवों के मुख्य मार्ग के दोनों ओर रखरखाव के पुख्ता इंतजाम के साथ फलदार पौधे रोपने की कार्ययोजना बनाएँ और उस पर अमल भी करें। साथ ही पिछले वर्ष हुए वृक्षारोपण स्थल पर गैप फिलिंग का कार्य भी किया जाए। जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग का अमला बेहतर समन्वय बनाकर ग्रामीण अंचल की पेयजल व्यवस्था को सुदृढ़ करें। 

उन्होंने बैठक में जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को निर्देश दिए कि पिछले वर्षों के अधूरे कार्यों को 15 मार्च तक पूर्ण कराएँ। निर्माण कार्यों में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखने पर जोर देते हुए श्री कान्याल ने कहा कि ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के सभी उपयंत्री एवं जनपद पंचायत के अधिकारी नियमित रूप से कार्य स्थल पर पहुँचें। साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि निर्माण कार्यों में संलग्न श्रमिकों को समय से मजदूरी का भुगतान हो जाए। उन्होंने मनरेगा (महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना) के तहत निर्धारित मानव दिवस लक्ष्य की पूर्ति करने पर भी विशेष बल दिया। 

श्री कान्याल ने कहा ग्रामीण अंचल में हर जरूरतमंद को रोजगार दिलाने के लिये मनरेगा के तहत पर्याप्त रोजगारमूलक कार्य शुरू किए जाएं। बैठक में सीएम हैल्पलाइन के तहत प्राप्त शिकायतों के निराकरण की समीक्षा की गई। साथ ही कोविड गाइडलाइन का पालन करने के निर्देश दिए गए। बैठक में जिले की सभी जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यांत्रिकी सेवा व लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी सहित अन्य संबंधित विभागों के खण्ड स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।