लोडेड पिस्टलों, चोरी के मोबाईल, मो.सा. सहित किया गिरफ्तार...

बालिका को अपहरणकर्ता के चंगुल से पुलिस ने कराया मुक्त

ग्वालियर। पुलिस मुख्यालय के आदेश पर ग्वालियर जिले में पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी के निर्देश पर गुम बालक बालिकाओं की पतारसी हेतु चलाये जा रहे अभियान के दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुमन गुर्जर एवं नगर पुलिस अधीक्षक मुरार आर.एन. पचौरी द्वारा अपने अधीनस्थ थाना प्रभारियों को थाना क्षेत्र से गुम हुए बालक बालिकाओं की पतारसी हेतु मुखबिर तंत्र विकसित करने के लिय निर्देशित किया गया। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशों के परिपालन में व नगर पुलिस अधीक्षक मुरार आर.एन. पचौरी के मार्गदर्शन में कार्य करते हुए थाना प्रभारी गोला का मंदिर विनय शर्मा को जरिये मुखबिर सूचना प्राप्त हुई ।

दिनांक 08.02.2021 को थाना क्षेत्र स्थित काल्पी ब्रिज कॉलोनी से नाबालिग बालिका का अपहरण करने वाले बदमाश को चंदन नगर के पास देखा गया है। उक्त सूचना पर से थाना प्रभारी गोला का मंदिर द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराते हुए मुखबिर के बताये स्थान पर मय थाना बल के घेराबंदी कर उक्त बदमाश को धरदबोचा। पकड़े गये बदमाश की तलाशी लेने पर उसके कब्जे से 02 पिस्टल, 02 मैन्जीन, 10 जिन्दा राउण्ड, 06 मोबाईल व 01 पल्सर मोटर सायकिल बरामद की गई। गिरफ्तार बदमाश से पूछताछ करने पर उसने बताया कि थाना गोला का मंदिर क्षेत्र निवासी नाबालिग बालिका का अपहरण उसी के द्वारा किया गया है जिसे पुलिस ने आरोपी के घर से दस्तयाब कर लिया गया। 

पुलिस द्वारा आरोपी से बालिका के अपहरण व चोरी की मोटर सायकिल के संबंध मे पूछताछ करने पर उसने बताया उसने उक्त पल्सर मो.सा. धौलपुर (राजस्थान) से चुराई थी और उसी मोटर सायकिल से उसने अपहरण की घटना को अंजाम दिया था। इसके अतिरिक्त उसने 02 मोटर सायकिल डबरा से चोरी कर भिण्ड में बेचना बताया। जिन्हे बदमाश की निशादेही पर बरामद किया जायेगा। उक्त बदमाश हाल ही में थाना हजीरा के हत्या के प्रकरण में 10 वर्ष की सजा काटकर जेल से बाहर आया था। 

प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए गिरफ्तार बदमाश के विरूद्ध एन.एस.ए. की कार्यवाही की जा रही है। ज्ञात हो कि दिनांक 08.02.2021 को काल्पी ब्रिज कॉलोनी निवासी फरियादी द्वारा थाना गोला का मंदिर में आकर रिपोर्ट की गई कि उसकी नाबालिग बालिका का अपहरण कर लिया गया है जिस पर से थाना गोला का मंदिर में अपराध क्रमांक 71/2021 धारा 363 का प्रकरण पंजीबद्ध किया जाकर अपहृता की तलाश की जा रही थी।