जिलों का मामला एक – मगर…

दो अलग-अलग थाना प्रभारियों पर हुई कार्यवाही

ग्वालियर जिले के कंपू थाना प्रभारी को दतिया कोतवाली थाना प्रभारी की कानून को दरकिनार कर मदद करना भारी पड़ गया है। टीआई कंपू की कार्रवाई को लापरवाही मानते हुए ग्वालियर एसपी ने टीआई को लाइन अटैच कर दिया है और पूरे मामले की जांच 7 दिन पूरे करने के निर्देश CSP को दिये हैं। पिछले दिनों ग्वालियर आये दतिया कोतवाली थाना प्रभारी रत्नेश यादव का मोबाइल एक बदमाश लूटकर फरार हो गया । घटना 15-16 जनवरी की रात कंपू थाना क्षेत्र की है। 

लूट की घटना के बाद दतिया कोतवाली टीआई रत्नेश यादव ने घटना की जानकारी कंपू थाने को दी। टीआई के साथ हुई लूट की सूचना पर तत्काल एक्शन लेते हुए टीआई कंपू अनीता मिश्रा ने घेराबंदी कर मोबाइल लूटने वाले बदमाश को पकड़ लिया लेकिन उन्होंने अपने महकमे के अफसर के साथ हुई घटना के चलते कानून को नजरंदाज किया और आरोपी युवक को टीआई दतिया रत्नेश यादव को ही सौंप दिया। बताया जाता है कि दतिया कोतवाली टीआई युवक को अपने साथ दतिया ले गए और वहाँ उसके उसपर आर्मस् एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर बंद कर दिया।

युवक को बंद किये जाने के बाद परिजनों ने एसपी से शिकायत की कि जब घटना ग्वालियर की है तो दतिया में आर्म्स एक्ट की कार्रवाई कैसे हो सकती है। इस पूरे मामले को ग्वालियर एसपी अमित सांघी मे गंभीरता से लिया और टीआई कंपू अनीता मिश्रा को लाइन अटैच कर दिया। एसपी ने पूरे मामले की जांच सीएसपी इंदरगंज को सौंपकर 7 दिन में जांच पूरी करने के निर्देश दिये हैं। उधर बगैर सूचना दिये मुख्यालय छोड़ने के मामले में दतिया SP श्री अमन सिंह राठौड़ ने कोतवाली थाना प्रभारी रत्नेश यादव को निलंबित कर दिया है|