भारत में कोरोना वैक्सीन पर चर्चा…

नये साल के पहले दिन वैक्सीन को लेकर बड़ा फैसला होने की संभावना

नए साल के पहले दिन कोरोना वैक्सीन को लेकर कोई फैसला होने की संभावना है. एक जनवरी यानी शुक्रवार को सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन की सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी की कोरोना वैक्सीन पर बैठक है. बैठक में तीन दवा कंपनियों के डाटा का रिव्यू होगा जिन्होंने इमरजेंसी यूज ऑथोराइजेशन की अनुमति मांगी है. इस कमिटी की सिफारिश पर डीसीजीआई फैसला लेंगे. साल 2021 के पहले दिन से कई लोगों को उम्मीद है. नए साल के पहले दिन कोरोना वैक्सीन को लेकर भी लोगों को उम्मीद है. उम्मीद है की इस महामारी के खिलाफ भारत को वैक्सीन मिल जाए. ये उम्मीद इसलिए और बढ़ जाती है क्योंकि एक जनवरी को वैक्सीन पर सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन की सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी की बैठक है. 

जिसमें भारत में कोरोना वैक्सीन के इमरजेंसी यूज ऑथोराइजेशन पर चर्चा होगी. ये तीन कंपनी है सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड और फाइजर. भारत बायोटेक से भी और जानकारी मांगा गया है. भारत बायोटेक से कहा गया की अभी चल रहे क्लीनिकल ट्रायल एफीकेसी और सेफ्टी डाटा कमेटी के सामने प्रस्तुत करें. इसके बाद 17 दिसंबर को फिर सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी की बैठक हुई जिसमें सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया जोकि ऑक्सफोर्ड और एस्ट्रेजनेका की वैक्सीन बना और ट्रायल कर रहें और भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड से कुछ और डाटा मांगा गया. जोकि जमा करा दिया गया था. इसके बाद 30 दिसंबर को फिर से कोरोना वैक्सीन पर SEC यानी सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी की बैठक हुई. 

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक जिसमें फाइजर, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक की वैक्सीन के आपात इस्तेमाल को लेकर चर्चा हुई. अब शुक्रवार को सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी फिर बैठक करेगी और डाटा रिव्यू करने के बाद अपनी सिफारिश दे सकती है. ये सिफारिश डीसीजीआई यानी ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया को होगी जिसके आधार पर वो अपना निर्णय करेंगे. वहीं सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया जिस ऑक्सफोर्ड और एस्ट्रेजनेका की वैक्सीन बना रही और भारत में ट्रायल कर रही है उसे यूके में इमरजेंसी यूज ऑथोराइजेशन मिल चुका है. सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी की पहली बैठक में कहा गया था की यूके के रेगुलेटर से अनुमति मिल जाए तो इसकी जानकारी डाटा के साथ देनी है. 

वहीं इस वैक्सीन का भारत में भी दूसरे और तीसरे चरण का ट्रायल हुआ है. ऐसे में उम्मीद यही की जा रही है की वैक्सीन को शायद सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी इस वैक्सीन पर अपनी राय अच्छी दे. जिसके बाद डीसीजीआई से अनुमति मिल जाए. वहीं कौन सी वैक्सीन पहले आएगी ये तो अभी साफ नहीं है लेकिन भारत सरकार ने इसको लेकर सारी तैयारी पूरी कर ली है. कोल्ड स्टोरेज से लेकर वैक्सीनेटर की ट्रेनिंग और जिन्हे देना है उनका डाटा सब कुछ. पहले चरण में ये वैक्सीन तीस करोड़ लोगो को दी जाएगी जिसके लिए प्रायरिटी लिस्ट यानी प्राथमिकता तय कर ली गई है. सबसे पहले हैल्थ केयर वर्कर, इसके बाद फ्रंटलाइन वर्कर और फिर पचास साल से ज्यादा उम्र के लोग और 50 साल से कम उम्र के वो लोग जिन्हे गंभीर बीमारी है. वहीं इसको लेकर चार राज्यों में दो दिनों का ड्राई रन भी किया गया था. वहीं 2 जनवरी को फिर से सभी राज्यों में एक दिन का ड्राई रन किया जाएगा.