अधिकारियों को लेकर सिटी बस से घूमे शहर…

यातायात प्रबंधन के लिये सभी विभाग समन्वित रूप से कार्य करें : आईजी

ग्वालियर। शहर की सड़कों पर नहीं खड़ी हो सकेंगीं वीडियोकोच बसें। इसके साथ ही मुरैना की ओर जाने वाली बसों के लिये जेबी मंगाराम के सामने संचालित होने लगा अस्थायी बस स्टेण्ड। गोला का मंदिर पर कोई बस नहीं खड़ी होने दी जाए। शहर की यातायात व्यवस्था को और बेहतर बनाने के लिये जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और नगर निगम संयुक्त रूप से कार्य करें। संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना एवं आईजी अविनाश शर्मा ने गुरूवार को स्मार्ट सिटी की सिटी बस सेवा में जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन एवं विभागीय अधिकारियों के साथ शहर का भ्रमण कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। 

दोपहर 12 बजे से पुलिस कंट्रोल रूम से सिटी बस में बैठकर यातायात व्यवसथा का निरीक्षण करने सभी विभागीय अधिकारी निकले। विभिन्न स्थानों पर यातायात प्रबंधन के संबंध में निरीक्षण कर मौके पर ही आवश्यक दिशा-निर्देश अधिकारियों को दिए। सिटी बस में निरीक्षण के समय डीआईजी ग्वालियर सचिन अतुलकर, कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक अमित सांघी, सीईओ स्मार्ट सिटी जयति सिंह, एडिशनल एसपी पंकज पाण्डेय, अपर आयुक्त नगर निगम नरोत्तम भार्गव सहित विभागीय अधिकारी मौजूद थे। वरिष्ठ अधिकारियों ने सर्वप्रथम सिटी सेंटर स्थित मल्टीलेवल पार्किंग का अवलोकन किया। 

पार्किंग के बेहतर संचालन के लिये स्थानीय व्यापारियों से चर्चा करने के साथ-साथ सड़क पर वाहन खड़े करने वाले वाहन मालिकों के विरूद्ध दण्डात्मक कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए। यह भी निर्देशित किया गया कि जो वाहन सड़क पर खड़े पाए जाएं उन्हें यातायात पुलिस पार्किंग में खड़ा कराएँ। इसके साथ ही इनसे यातायात की चालान राशि के साथ-साथ पार्किंग की राशि भी वसूल की जाए। वीडियोकोच बसों के संचालन के लिये झाँसी रोड़ स्थित बस स्टेण्ड के समीप तैयार किए गए बस स्टेशन से संचालन तत्काल प्रारंभ करने के निर्देश दिए गए। 

बस स्टेण्ड पर जो छोटे-छोटे काम शेष हैं उन्हें नगर निगम के माध्यम से शीघ्र पूर्ण कराने के निर्देश भी नगर निगम के अधिकारियों को दिए गए। संभागीय आयुक्त एवं आईजी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि शहर से संचालित होने वाली सभी वीडियोकोच बसें झांसी रोड़ से ही संचालित हों। दिन भर भी कोई बस शहर की सड़कों पर खड़ी न हों सभी बसें बस स्टेण्ड पर ही रखी जाएँ। शहर की सड़कों पर कोई भी वीडियोकोच बस खड़ी पाई जाए तो वाहन मालिक के विरूद्ध चालान की कार्रवाई की जाए। यात्रियों की सुविधा को देखते हुए नए बस स्टेण्ड के संचालन के संबंध मे प्रचार-प्रसार भी किया जाए, ताकि यात्रीगण सुगमता से अपनी यात्रा कर सकें।