मुख्यालय से नदारत रहने पर 4 ग्राम पंचायत सचिव निलंबित…

ऊर्जा मंत्री ने किया बामौर विद्युत केन्द्र का औचक निरीक्षण

ग्वालियर। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि उपभोक्ताओं की मीटर वाचन, बिलिंग एवं अन्य शिकायतों का निराकरण बिजली पंचायतें आयोजित कर किया जाए। यह बात ऊर्जा मंत्री ने मुरैना बामौर वितरण केन्द्र के औचक निरीक्षण के दौरान कही। ऊर्जा मंत्री श्री तोमर ने औचक निरीक्षण के दौरान मीटर वाचकों से चर्चा की और उन्हें सही मीटर रीडिंग के निर्देश दिए। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने इस दौरान अम्बाह संभाग के नावली गांव में कंपनी के अधिकारियों से विद्युत वितरण व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के निर्देश दिए एवं ग्रामीण उपभोक्ताओं से अपील कीकिवेअधिक से अधिक संख्या में बिजली बिलों का भुगतान करें, ताकि कंपनी उपभोक्ताओं को बेहतर सेवाएं दे सके। 

नियत दिवस पर पंचायत मुख्यालय पर न रहना जिले की चार ग्राम पंचायतों के सचिवों को भारी पड़ा है। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी शिवम वर्मा ने संबंधित पंचायत सचिवों को निलंवित करने के आदेश जारी किए हैं। निरीक्षण के दौरान ये चारों पंचायत सचिव गैरहाजिर मिले थे। ज्ञात हो राज्य शासन द्वारा पंचायत सचिवों एवं ग्राम रोजगार सहायकों को हर हप्ते सोमवार एवं गुरूवार को  अपने ग्राम पंचायत मुख्यालय पर आवश्यक रूप से उपस्थित रह कर जन समस्याओं का निराकरण करने और ग्राम पंचायत से संबंधित कार्यों का निर्वहन करने के निर्देश जारी किए गए हैं। 

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा जिन ग्राम पंचायतों के सचिवों के खिलाफ निलंबर की कार्यवाही की गई है उनमें जनपद पंचायत भितरवार की ग्राम पंचायत देवरी के सचिव जरदान सिंह रावत, ग्राम पंचायत झाकरी के सचिव अंगद सिंह चौहान एवं ग्राम पंचायत स्याऊ के सचिव प्रेम सिंह शाक्य शामिल हैं। जनपद पंचायत भितवार के मुख्यकार्यपालन अधिकारी द्वारा दिये गये प्रतिवदेन के आधार पर इन ग्राम पंचायत सचिवों को निलंबित किया गया है। इसी तरह वगैर सूचना के मुख्यालय से अनुपस्थित रहने पर जनपद पंचायत मुरार की ग्राम पंचायत डबका के सचिव गयाप्रसाद दुबे पर भी निलंबन की कार्यवाही की गई है।