मतदान सामग्री लेकर आज रवाना होंगे मतदान दल…

कलेक्टर ने लिया मतदान सामग्री वितरण व्यवस्था का जायजा

ग्वालियर। जिले में विधानसभा उप चुनाव के लिए सभी तैयारियाँ पूर्ण कर ली गई हैं। मतदान दलों को 2 नवम्बर को एमएलबी. कॉलेज से प्रात: 5 बजे से वीवीपैट एवं ईवीएम सहित सभी प्रकार की मतदान सामग्री वितरित की जायेगी। इसके बाद विशेष वाहनों से मतदान दलों को उनके मतदान केन्द्रों के लिये रवाना किया जायेगा। ज्ञात हो 3 नवम्बर को जिले के विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 15-ग्वालियर, 16-ग्वालियर पूर्व एवं 19-डबरा (अजा) में प्रात: 7 बजे से सायंकाल 6 बजे तक मतदान होगा। जिले के तीनों विधानसभा क्षेत्रों में 285 सहायक मतदान केन्द्रों सहित कुल 1188 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। तीनों विधानसभा क्षेत्रों में कुल 8 लाख 30 हजार 603 मतदाता हैं। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने रविवार की शाम एमएलबी कॉलेज पहुँचकर मतदान सामग्री वितरण व्यवस्था का जायजा लिया। मतदान सामग्री वितरित करने के लिये एमएलबी कॉलेज परिसर में विधानसभा क्षेत्रवार काउण्टर और मतदान दलों के सहयोग के लिये उदघोषणा कक्ष बनाए गए हैं। मतदान सामग्री वितरण व संकलन के लिए हर विधानसभा क्षेत्र के मान से दो प्रकार के काउण्टर बनाए गए हैं। 

एक काउण्टर पर ईवीएम, वीवीपैट एवं अन्य महत्वपूर्ण प्रपत्र वितरण का काम होगा। दूसरे काउण्टर से शेष सामग्री वितरित की जायेगी। विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 15-ग्वालियर के लिये 16-16 काउण्टर, विधानसभा क्षेत्र 16-ग्वालियर पूर्व के लिये 18-18 काउण्टर एवं विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 19-डबरा (अजा) के लिये 13-13 काउण्टर बनाए गए हैं। हर काउण्टर पर 8 अधिकारी-कर्मचारी सामग्री वितरण व प्राप्ति के लिये तैनात रहेंगे। मतदान दलों को मतदान सामग्री की थैली के लिये कहीं जाने की जरूरत नहीं रहेगी उन्हें संबंधित विधानसभा क्षेत्र के काउण्टर के समीप निर्धारित किए गए स्थल पर ही वितरण में लगे कर्मचारी यह थैली प्रदान करेंगे। मतदान सम्पन्न होने के पश्चात मतदान सामग्री एमएलबी कॉलेज में ही जमा की जायेगी। यहीं पर विधानसभा क्षेत्रवार बनाये गये स्ट्रांग रूम में ई व्ही एम. कड़ी सुरक्षा के बीच सील्ड कर रखी जायेंगी। जिला निर्वाचन अधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बताया कि मतदान दलों को मतदान केन्द्रों तक पहुँचाने एवं मतदान के पश्चात वापस एमएलबी कॉलेज तक लाने के लिये 25 रिजर्व बसों सहित कुल 273 बसों का अधिग्रहण किया गया है। 

इसके अलावा सेक्टर अधिकारियों के लिये भी रिजर्व वाहनों सहित 110 वाहनों की व्यवस्था की गई है। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बताया कि विधानसभा उप चुनाव के लिये जिले के तीनों विधानसभा क्षेत्रों में 285 सहायक मतदान केन्द्रों सहित कुल 1188 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं, जिनमें विधानसभा क्षेत्र-15 ग्वालियर के 409, विधानसभा क्षेत्र 16-ग्वालियर पूर्व के 447 एवं विधानसभा क्षेत्र 19-डबरा (अजा) के 332 मतदान केन्द्र शामिल हैं। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि ग्वालियर शहर में स्थित मतदान केन्द्र 365 भवनों में स्थापित किए गए हैं। स्वतंत्र एवं निष्पक्ष ढंग से मतदान सम्पन्न कराने के लिये तीनों विधानसभा क्षेत्रों में 100 मतदान केन्द्रों पर वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा 88 स्थानों पर सीसीटीव्ही कैमरे लगाए गए हैं। साथ ही 49 माइक्रो ऑब्जर्वर भी विभिन्न मतदान केन्द्रों पर तैनात रहेंगे। मतदान पर निगरानी रखने के लिये 98 सेक्टर अधिकारी लगातार अपने-अपने क्षेत्र के मतदान केन्द्रों पर पहुँचेंगे। साथ ही सेक्टर पुलिस अधिकारी भी भ्रमण पर रहेंगे। केन्द्रीय सुरक्षा बलों की 10 कंपनियों सहित स्थानीय पुलिस बल मतदान केन्द्रों पर तैनात किया जायेगा। 

जिला निर्वाचन अधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बताया कि जिले के जिन विधानसभा क्षेत्रों में उप चुनाव होना हैं उन सभी में मतदान दिवस 3 नवम्बर को सार्वजनिक अवकाश रहेगा, जिससे सभी लोग अपने मताधिकार का उपयोग कर सकें। एमएलबी कॉलेज से सुव्यवस्थित ढंग से मतदान दलों को रवाना करने के लिये यातायात व्यवस्था में 2 नवम्बर को बदलाव किया गया है। इस दिन शीतला सहाय चौराहे से अचलेश्वर तक थीम रोड़ पर अवागमन प्रतिबंधित रहेगा। केवल मतदान दलों के परिवहन में लगाए गए वाहन ही इस रोड़ पर आ-जा सकेंगे। अपर जिला दण्डाधिकारी किशोर कान्याल ने बताया कि सभी मतदान दल रवाना होने के बाद थीम रोड़ को आवागमन के लिये खोल दिया जायेगा। इसके बाद 3 नवम्बर को सायंकाल 6 बजे से थीम रोड़ पर फिर से आवागमन प्रतिबंधित किया जायेगा, जिससे मतदान दल सुगमता से एमएलबी कॉलेज पहुँचकर मतदान सामग्री जमा कर सकें। उन्होंने बताया कि 2 दिसम्बर को शासकीय कर्मचारियों के लिये जीवायएमसी मैदान, सनातन धर्म मंदिर व चेम्बर ऑफ कॉमर्स में पार्किंग की व्यवस्था रहेगी। इसके अलावा एमएलबी कॉलेज की पार्किंग में भी कर्मचारी अपने दुपहिया वाहन खड़े कर सकेंगे।