ग्रामीणों को नल के जरिए मिलेगा शुद्ध पेयजल…

संभाग की 134 नल-जल योजनाओं के लिये मंजूर हुए 137.18 रूपए

ग्वालियर। ग्रामीण अंचल में शुद्ध पेयजल मुहैया कराने के मकसद से प्रदेश सरकार द्वारा कारगर कदम उठाए गए हैं। ग्रामीण अंचल में मौजूद जल स्त्रोतों का समुचित उपयोग कर ग्रामीणों को नल-जल योजना के माध्यम से पेयजल मुहैया कराने के प्रयास सरकार द्वारा किए जा रहे हैं। सरकार ने अगले तीन साल में चरणबद्ध तरीके से ग्रामीण रहवासियों को नल कनेक्शन के जरिए पेयजल मुहैया कराने का लक्ष्य निर्धारित किया है। 

इस कड़ी में ग्वालियर-चंबल संभाग की 134 ग्रामीण नल-जल योजनाओं को सुचारू करने के लिये प्रदेश सरकार द्वारा 137 करोड़ 18 लाख रूपए की राशि मंजूर की गई है। राष्ट्रीय जल जीवन मिशन के अन्तर्गत प्रदेश की समग्र ग्रामीण आबादी को घरेलू नल कनेक्शन से पेयजल की आपूर्ति किए जाने के लिए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा जल संरचनाओं की स्थापना एवं विस्तार के कार्य किए जा रहे हैं। इनमें ग्वालियर जिले की 66 जल संरचनायें, गुना की 22, अशोकनगर की 20 तथा भिण्ड की 26 जल संरचनायें शामिल हैं। 

इन जिलों के विभिन्न ग्रामों में पूर्व से निर्मित पेयजल अधोसंरचनाओं को नये सिरे से तैयार कर रेट्रोफिटिंग योजना के अन्तर्गत कार्य किया जा रहा है। इस प्रकार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा ग्वालियर-चम्बल संभाग के ग्वालियर, गुना, अशोकनगर तथा भिण्ड जिले में 134 ग्रामीण नल-जल प्रदाय योजनाओं हेतु 137 करोड़ 18 लाख रूपये की स्वीकृति दी गई है। विभाग के मैदानी अमले द्वारा जल जीवन मिशन के मापदण्डों के अनुसार प्रकिया प्रारम्भ की जा रही है।