कलेक्टर ने बैठक में दिए निर्देश…

निर्वाचन कार्य में लापरवाही बरतने  के विरूद्ध होगी कार्रवाई : श्री सिंह

ग्वालियर। विधानसभा उप निर्वाचन-2020 के लिये निर्वाचन आयोग द्वारा आचार संहिता लागू करने के साथ ही निर्वाचन की तैयारियाँ की जा रही हैं। स्वतंत्र, निष्पक्ष और शांतिपूर्ण मतदान के लिये शासकीय अमले को प्रशिक्षित कर मतदान की जवाबदारी सौंपी गई है। मतदान के कार्य में लापरवाही बरतते हुए निर्वाचन प्रशिक्षण में बिना किसी ठोस कारण के अनुपस्थित कर्मचारियों के विरूद्ध सेवा समाप्ति की कार्रवाई करने के निर्देश कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने दिए हैं। गुरूवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में निर्वाचन के लिये नियुक्त नोडल अधिकारियों की बैठक में कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा है कि निर्वाचन के कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। 

बिना किसी कारण के निर्वाचन प्रशिक्षण में अनुपस्थित रहने वाले कर्मचारियों के विरूद्ध कठोर दण्डात्मक कार्रवाई की जाए। ऐसे कर्मचारियों की सेवा समाप्ति का प्रकरण भी तैयार कर कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि निर्वाचन के द्वितीय चरण में शतप्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति हो, यह भी सुनिश्चित किया जाए। बिना उचित कारण के कोई भी कर्मचारी प्रशिक्षण में अनुपस्थित न रहे। अनुपस्थित रहने वाले कर्मचारी को बख्शा नहीं जाए। कलेक्टर श्री सिंह ने समीक्षा के दौरान पाया कि प्रथम चरण के प्रशिक्षण में 140 कर्मचारी प्रशिक्षण में अनुपस्थित रहे हैं। ऐसे कर्मचारियों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई करने के निर्देश देने के साथ ही उन्होंने स्पष्ट किया कि कोई भी अधिकारी व कर्मचारी निर्वाचन के कार्य में लापरवाही न बरते। 

लापरवाही पाए जाने पर सेवा समाप्ति की कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने नोडल अधिकारियों को भी निर्देशित किया कि निर्वाचन के लिये जो जवाबदारी सौंपी गई है उसका समय पर पालन सुनिश्चित करें। निर्वाचन के कार्य में अगर कोई भी शंका हो तो वरिष्ठ अधिकारियों से मार्गदर्शन लेकर सौंपे गए दायित्वों का निर्वहन करें। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने यह भी कहा है कि निर्वाचन के साथ-साथ कोविड-19 के संबंध में जो गाइडलाइन जारी की गई है उसका पालन भी सुनिश्चित किया जाए। कोविड-19 की गाइडलाइन का उल्लंघन पाए जाने पर संबंधित के विरूद्ध तत्काल एफआईआर दर्ज कराई जाए। 

चुनावी सभाओं की वीडियो रिकॉर्डिंग कराने के साथ ही जिन शर्तों के साथ अनुमति दी गई है उसका पालन भी हो, इसकी निगरानी की जाए। शर्तों का उल्लंघन पाए जाने पर संबंधित के विरूद्ध दण्डात्मक कार्रवाई हेतु प्रकरण कायम कराया जाए। कलेक्टर श्री सिंह ने अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया कि मतदान केन्द्रों को तैयार करने की कार्रवाई तेजी के साथ की जाए। सभी मतदान केन्द्रों पर कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम के लिये जो प्रबंध करने के निर्देश जारी किए गए हैं उनका पालन भी सुनिश्चित हो, इसकी व्यवस्था समय रहते की जाए। मतदान केन्द्रों पर मतदाताओं को बैठने के लिये टेन्ट, कुर्सी की व्यवस्था हो। इसके साथ ही तीन लाइनें लगाने की व्यवस्थायें भी सुनिश्चित की जाएँ। 

मतदान केन्द्रों पर सेनेटाइजर, हैण्ड ग्लब्स, मास्क की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जायेगी। इसके साथ ही मतदाताओं को भी मतदान केन्द्रों पर कोविड संक्रमण से सुरक्षा के लिये किए गए प्रबंधनों के संबंध में विस्तार से जानकारी देने हेतु व्यापक प्रचार-प्रसार भी किया जाए। बैठक में सम्पत्ति विरूपण अधिनियम के तहत भी प्रभावी कार्रवाई करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए गए। मतदाता जागरूकता अभियान के तहत नियमित गतिविधि कर मतदाताओं को जागरूक करने का कार्य किया जाए। शहरी क्षेत्र के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्र के मतदाताओं को भी मतदाता जागरूकता अभियान की गतिविधियों से जोड़ा जाए। 

ग्रामीण क्षेत्र में भी कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम हेतु मतदान केन्द्रों पर किए जा रहे प्रबंधनों के संबंध में जानकारी दी जाए। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि विधानसभा उप निर्वाचन-2020 में मतदान दलों को सामग्री का वितरण एमएलबी कॉलेज परिसर से किया जाना है। मतदान दलों को दी जाने वाली मतदान सामग्री का वितरण एवं मतदान के पश्चात उसको जमा करने की व्यवस्था भी समय रहते पूर्ण कर ली जाए। मतदान दलों को मतदान सामग्री प्राप्त करते समय एवं जमा करते समय किसी प्रकार की परेशानी न हो, इसके पुख्ता प्रबंध किए जाएँ। सभी कर्मचारियों को बैठने की व्यवस्था के साथ-साथ पानी आदि की व्यवस्था भी हो, यह सुनिश्चित किया जाए।