BJP के सदस्यता कैंपेन के बाद…

जीत का परचम लहराने की जुगत में कमलनाथ का ग्वालियर कूच



ग्वालियर। मध्य प्रदेश में उपचुनाव को लेकर सियासी पारा गरमाया हुआ है. बीजेपी और कांग्रेस की नजर ग्वालियर-चंबल संभाग की 16 सीटों पर टिक गई है. जहां बीजेपी के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने गढ़ में जीत हासिल कर प्रतिष्ठा को बरकरार रखना चाहते हैं, वहीं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भी ग्वालियर में जीत का परचम लहराने की जुगत में लगे हैं. इसी के मद्देनजर वे ग्वालियर दौरे पर आने वाले हैं. जिसे लेकर सिंधिया ने उनपर निशाना साधा है. पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के प्रस्तावित दौरे पर तंज कसते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि हम ग्वालियर के लोग हैं और वह यदि आते हैं तो उनका स्वागत है, क्योंकि हम अतिथि देवो भव की परंपरा में विश्वास रखते हैं, उन्होंने कहा कि आगामी चुनाव में बीजेपी किसी को निपटाने के लिए नहीं बल्कि अंचल के विकास के लिए चुनाव लड़ेगी. 

जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस पार्टी सितंबर महीने के दूसरे हफ्ते में कमलनाथ के ग्वालियर दौरे की तैयारी कर रही है. कमलनाथ के दौरे को अगस्त में हुए शिवराज और सिंधिया के शो का जवाब माना जा रहा है. कमलनाथ के ग्वालियर दौरे के दौरान कांग्रेस पार्टी जिला, ब्लाक, मंडल और सेक्टर स्तर के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर चुनावी रणनीति तैयार करेगी. पार्टी ने इस दौरान सदस्यता अभियान चलाने का फैसला किया है. फिलहाल उसका फोकस ग्वालियर चंबल के उन नेताओं-कार्यकर्ताओं पर है जो बीजेपी से असंतुष्ट चल रहे हैं. कमलनाथ की मौजूदगी में उन लोगों को कांग्रेस की सदस्यता दिलाई जा सकती है. गौरतलब है कि बीजेपी ने तीन दिन तक ग्वालियर चंबल इलाके के लिए ग्वालियर में मेगा शो किया था. 

इस दौरान दावा किया गया था कि 76 हजार कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बीजेपी की सदस्यता ली. हालांकि उसके दावे का कांग्रेस ने मखौल उड़ाया कि बीजेपी उन कार्यकर्ताओं के नाम तो बताए. बीजेपी के बाद अब कांग्रेस की बारी है. इस इलाके में 16 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होना है. अब कमलनाथ भी सिंधिया के गढ़ से उप चुनाव के लिए प्रचार का शंखनाद करने जा रहे हैं. कांग्रेस विधायकों के पार्टी छोड़ने के बाद ग्वालियर-चंबल में 16 सीट खाली हुई हैं. उसमें मुंगावली, अशोकनगर, बामोरी, पोहरी, करेरा, भांडेर, डबरा, जौरा, दिमनी, गोहद, ग्वालियर शहर, ग्वालियर पूर्व, मुरैना, अंबाह, मेहगांव और सुमावली है. बीएसपी के एक नेता ने कहा है कि हम इन सीटों पर पूरे दमखम के साथ चुनाव लड़ेंगे.