स्व-निधि योजना के तहत 10 – 10 हजार रूपए से…

उद्यानिकी मंत्री ने हितग्राहियों को किया लाभान्वित

ग्वालियर। ग्रामीण क्षेत्र में छोटा-छोटा व्यवसाय करने वाले व्यवसाइयों को आत्मनिर्भर बनाने के लिये प्रधानमंत्री स्व-निधि योजना के तहत 10 – 10 हजार रूपए का ऋण बिना ब्याज के उपलब्ध कराया जा रहा है। ऋण का ब्याज मध्यप्रदेश सरकार देगी। प्रधानमंत्री स्व-निधि योजना छोटे व्यवसाइयों को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण योजना है। प्रदेश के उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह ने मुरार जनपद के ग्राम पंचातय किटौली में आयोजित ग्रामीण स्ट्रीट वेंडरों के ऋण वितरण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में कही। 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल से ग्रामीण स्ट्रीट वेंडरों के ऋण वितरण कार्यक्रम का राज्य स्तरीय शुभारंभ किया और हितग्राहियों से सीधे संवाद भी किया। ग्वालियर जिले में भी जनपद पंचायतों में कार्यक्रमों का आयोजन कर हितग्राहियों को ऋण वितरित किए गए। मुरार जनपद का कार्यक्रम ग्राम पंचायत किटौली में आयोजित हुआ। कार्यक्रम में जनपद सदस्य हाकिम सिंह राठौर, सरपंच आशाराम बघेल, सहायक मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत विजय दुबे, पार्षद नरेन्द्र किरार, पूर्व एमआईसी सदस्य केशव सिंह, जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी राजीव मिश्रा, सेंट्रल बैंक के मैनेजर राजीव अग्रवाल सहित ग्रामीणजन उपस्थित थे। 

उद्यानिकी मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने कहा कि मुरार जनपद क्षेत्र में 109 हितग्राहियों को प्रधानमंत्री स्व-निधि योजना के तहत 10 – 10 हजार रूपए का ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है। इनमें जनपद पंचायत किटौली के 39 हितग्राही शामिल हैं। इसके साथ ही ग्राम पंचायत में 195 हितग्रहियों को नवीन खाद्यान्न पर्ची का वितरण भी किया गया । मंत्री श्री कुशवाह ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत भी ग्राम पंचायत में 194 आवासों की मंजूरी प्रदान की गई है। ग्रामीण क्षेत्र में किसी भी आवासहीन को छोड़ा नहीं जायेगा। सभी को आवास की सुविधा मुहैया कराई जायेगी।

 मंत्री श्री कुशवाह ने कहा कि जरूरतमंदों को खाद्यान्न की उपलब्धता सुनिश्चित करने हेतु सभी पात्र हितग्राहियों को राशन की पात्रता पर्ची प्रदान की गई है। इन सभी को एक रूपए किलो के मान से खाद्यान्न उपलब्ध कराया जायेगा। इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से भी सभी पात्र व्यक्ति को नि:शुल्क पाँच किलो गेहूँ और एक किलो दाल के मान से खाद्यान्न उपलब्ध कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि तीन स्व-सहायता समूहों को भी 3 – 3 लाख रूपए की सहायता राशि उपलब्ध कराई गई है। कार्यक्रम में स्व-सहायता निधि के तहत हितग्राहियों को सहायता राशि के चैक वितरित करने के साथ ही खाद्यान्न की पात्रता पर्ची का वितरण भी किया गया।